Bageshwar dham

बागेश्वर धाम (Bageshwar dham) के धीरेंद्र शास्त्री लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं. मीडिया का एक बड़ा तबका उनके प्रचार प्रसार में जुड़ा हुआ है. धीरेंद्र शास्त्री से पहले भी कई बाबा चमत्कार के दावे कर चुके हैं. आसाराम से लेकर निर्मल बाबा तक और राम रहीम तक के भक्तों की संख्या लाखों-करोड़ों में थी. ठीक उसी तरह बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री के भक्तों की संख्या में दिन-रात बढ़ोतरी हो रही है. लेकिन अचानक से यह बाबा चर्चाओं में क्यों आए?

पिछले दिनों बुलडोजर को लेकर चर्चाएं जोरों पर थी. बुलडोजर सुर्खियों में बना हुआ था. किसी का भी घर गिरा दिया जा रहा था अतिक्रमण के नाम पर और कोई भी अगर कहीं गलती कर दे पाया गया तो बीजेपी शासित राज्यों में उसके घर पर बुलडोजर चला दिया जा रहा था. अदालत में दोषी साबित हुए बगैर बुलडोजर के दम पर बीजेपी शासित राज्य सुर्खियां बटोर रहे थे.

उसी बीच बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री ने बुलडोजर के समर्थन में अपनी सभा में एक बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि आत्म निर्भर की बात प्रधानमंत्री मोदी करते हैं और सभी को आने वाले समय में एक-एक बुलडोजर खरीद लेना चाहिए, कब कहां जरूरत पड़ जाए कहा नहीं जा सकता. उनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था.

Also Read- मुस्लिम युवक ने की थी धीरेंद्र शास्त्री की मदद

उस के बाद से ऐसा माना गया कि वह राजनीति में एक विचारधारा विशेष के समर्थक हैं. हालांकि वह सनातन और हिंदू धर्म की बात करते हैं और कहते हैं कि उनका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं. लेकिन उनके बयानों से ऐसा लगता है कि वह राजनीति में एक पार्टी विशेष के समर्थक हैं और उनके द्वारा लगाए जा रहे दरबार में जो नेता सबसे अधिक दिखाई देते हैं वह बीजेपी के ही होते हैं.

इसी साल मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं. बागेश्वर धाम मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित है. धीरेंद्र शास्त्री भी मध्य प्रदेश के हैं और उनके बयानों से जैसा कि दिखाई देता है वह एक राजनीतिक पार्टी की विचारधारा से खुद को जोड़ते हुए पाए जाते हैं और इस वक्त धीरेंद्र शास्त्री खूब सुर्खियां बटोर रहे हैं. इसका मतलब निश्चित तौर पर उन के माध्यम से बीजेपी मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में लाभ लेने की कोशिश करेगी.

मध्य प्रदेश में बीजेपी का सीधा मुकाबला कांग्रेस से हैं और कांग्रेस के नेता धीरेंद्र शास्त्री के बयानों का और उनके द्वारा किए जा रहे दावों का विरोध करते दिखाई दे रहे हैं. निश्चित तौर पर बीजेपी चुनावों में इस को लेकर कांग्रेस पर हमलावर होगी. बीजेपी कांग्रेस को हिंदू विरोधी, सनातन विरोधी साबित करने की कोशिश करेगी. क्योंकि बाबा द्वारा किए जा रहे तथाकथित चमत्कार के दावों का विरोध कांग्रेस के कई नेता करते पाए गए हैं.

तो क्या बीजेपी के ही इशारे पर धीरेंद्र शास्त्री को मीडिया स्पेस दे रहा है? ताकि मध्यप्रदेश में धीरेंद्र शास्त्री के नाम पर हिंदू वोटरों के बीच बीजेपी अपनी पकड़ को बरकरार रख सके और नए वोटर जोड़ सके, जो महंगाई से और बेरोजगारी से परेशान हैं? धीरेंद्र शास्त्री का अचानक से सुर्खियों में आ जाना कई सवाल पैदा कर रहा है.

ठीक इसी तरह राम रहीम का असर भी हरियाणा तथा उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में देखा जाता है और राम रहीम के आगे नेता नतमस्तक नजर आते हैं. बताया जाता है कि राम रहीम का असर एक बड़ी आबादी पर है और वह चुनावों में जिस पार्टी को बोल दे उसके भक्त उसी पार्टी को वोट देते हैं. तो क्या मध्यप्रदेश में धीरेंद्र शास्त्री के जरिए बीजेपी आने वाले विधानसभा चुनाव में यही करने वाली है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here