jairam ramesh

कांग्रेस पार्टी की भारत जोड़ो यात्रा इस वक्त चर्चाओं में है. इस बीच कांग्रेस ने टीएमसी, सीपीएम और आम आदमी पार्टी पर जबरदस्त हमला बोला है. कांग्रेस की तरफ से कहा गया है कि कांग्रेस को कमजोर करने की कीमत पर विपक्षी एकता नहीं हो सकती. कांग्रेस ने कहा है कि पश्चिम बंगाल में बीजेपी के उभार के लिए जहां ममता बनर्जी की टीएमसी जिम्मेदार है, वहां केरल में सीपीएम और बीजेपी एक ही सिक्के के दो पहलू हैं.

बता दें कि एक सवाल उठाया जा रहा था कि भारत जोड़ो यात्रा केरल में इतने ज्यादा दिन क्यों बिता रही है? उत्तर प्रदेश जहां भारत को जोड़े जाने की जरूरत सबसे ज्यादा है वहां सिर्फ 2 दिन और और केरल में 18 दिन. जबकि इसका जवाब यह है कि यात्रा को एक सीधी रेखा में रखा गया है. कन्याकुमारी से केरल तक जो शहर सीध में आते गए उन्हें ले लिया गया. अगर इस तरह के सवाल उठे तो यह भी उठेगा कि क्या आसाम और नागालैंड को जोड़ने की जरूरत नहीं है? लेकिन इस यात्रा में जोर कन्याकुमारी से कश्मीर तक एक भारत का है. इसलिए यह सवाल जितना ज्यादा तार्किक दिखता है उतना तार्किक है नहीं.

आपको बता दें कि सीपीएम की तरफ से कांग्रेस पर कटाक्ष किया गया था, जिसके जवाब में कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा है कि भारत जोड़ो यात्रा विपक्षी एकता के लिए यात्रा नहीं है. भारत जोड़ो यात्रा कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने के लिए एक यात्रा है. एक मजबूत कांग्रेस के बिना विपक्षी एकता नहीं पा सकते हैं. उन्होंने साफ शब्दों में कहा है कि राजनीतिक दल जो कांग्रेस के साथ गठबंधन करना चाहते हैं, उसे यह नहीं सोचना चाहिए कि गठबंधन का मतलब है कि मैं कांग्रेस से सब कुछ ले लूं और कांग्रेस को कुछ नहीं दूं.

उन्होंने कहा कि अब तक हर कोई कांग्रेस को कमजोर करने की कोशिश करता रहा है, हम ऐसा नहीं होने देंगे. हम कांग्रेस पार्टी को मजबूत करेंगे और अगर विपक्षी एकता की जरूरत है तो हम निश्चित रूप से विपक्षी एकता की दिशा में काम करेंगे. लेकिन हम उन पार्टियों के साथ विपक्षी एकता नहीं रख सकते जो कांग्रेस को कमजोर करने की मंशा रखते हैं.

आपको बता दें कि इससे पहले राहुल गांधी ने भी कहा था कि भारत जोड़ो यात्रा देश के लोगों को एक साथ लाने के लिए है और यह विपक्षी एकता में मदद करेगी यह इसका मुख्य मकसद नहीं था. जयराम रमेश ने एक न्यूज़ पोर्टल से बात करते हुए कहा है कि केरल में सीपीएम बीजेपी की एक टीम है. राष्ट्रीय स्तर पर सीपीएम का एक अलग नजरिया है, लेकिन केरल में सीपीएम बीजेपी को प्रोत्साहित करने की पूरी कोशिश कर रही है. क्योंकि बीजेपी को प्रोत्साहित करके ही सीपीएम केरल में कांग्रेस को कमजोर करने में सफल होगी.

जयराम रमेश ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर उनकी कांग्रेस के बारे में एक राय हो सकती है, लेकिन केरल के संदर्भ में सीपीएम और बीजेपी एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. राष्ट्रीय स्तर पर अगर सीपीएम कांग्रेस का समर्थन करना चाहती है तो उनका स्वागत है. याद कीजिए 1989 में सीपीएम और बीजेपी ने मिलकर वीपी सिंह सरकार को समर्थन दिया था. कांग्रेस भारत की एकमात्र राजनीतिक पार्टी है जिसका बीजेपी के साथ कभी कोई गठबंधन नहीं रहा, उसका बीजेपी से गठबंधन नहीं हो सकता. लेकिन हर दूसरे राजनीतिक दल ने बीजेपी से समझौता किया है, जिसमें वामपंथी भी शामिल है.

जयराम रमेश ने ममता बनर्जी को भी आड़े हाथों लिया है. उन्होंने कहा है कि ममता बनर्जी भी एक दिन सुबह आरएसएस की तारीफ करेंगी और दोपहर में कुछ और करेंगी. आपको बता दें कि पिछले दिनों ममता बनर्जी ने आरएसएस की तारीफ की थी. इसके अलावा आपको बता दें कि भारत जोड़ो यात्रा से कांग्रेस को काफी उम्मीदें हैं. पिछले कुछ सालों में कांग्रेस बहुत ज्यादा कमजोर हुई है और क्षेत्रीय दल भी उससे आंख दिखाने लगे थे. इस यात्रा से कांग्रेस को उम्मीद है कि बीजेपी के साथ साथ हुआ क्षेत्रीय दलों को भी उनकी जगह दिखाने में सफल होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here