Bhagat Singh Bhagwant Mann

आम आदमी पार्टी की जीत के बाद भगवंत मान (Bhagwant Mann) आज पंजाब के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं. आम आदमी पार्टी की तरफ से इस शपथ ग्रहण समारोह को भव्य बनाने की कोशिश की जा रही है, प्रचार में भी काफी पैसा खर्च किया गया है. 150 एकड़ की फसल को तबाह कर के पंडाल बनाया गया है.

आम आदमी पार्टी की तरफ से कहा गया है कि सरकार इसका मुआवजा देगी. शपथ ग्रहण समारोह दोपहर 12:30 बजे होगा. माना जा रहा है कि मान के साथ 16 विधायक भी मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं. लेकिन पुख्ता जानकारी अभी इसकी नहीं आई है. इस शपथ ग्रहण समारोह में अरविंद केजरीवाल भी शिरकत करेंगे.

लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा इस बात को लेकर हो रही है कि, भगवंत मान ने कहा है कि यह शपथ ग्रहण समारोह भगत सिंह (Bhagat Singh) के गांव में होगा और उन्होंने पूरे पंजाब को आमंत्रित किया है. तो सबसे बड़ा सवाल यही है कि भगत सिंह का असली गांव कहां है?

शहीद भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर 1907 में पाकिस्तान के लायलपुर के बंगा गांव में हुआ था. आज लायलपुर को फैसलाबाद जिले के नाम से जाना जाता है. उनके पिता का नाम किशन सिंह और मां का नाम विद्यावती था. सात भाई बहनों में भगत सिंह दूसरे नंबर पर थे. भगत सिंह का पैतृक गांव पंजाब के नवांशहर के खट्कड़ कलां में है.

खट्कड़ कलां में भगत सिंह का पैतृक गांव है. लेकिन उनके जन्म से पहले उनका परिवार बंगा गांव में जाकर बस गया था. यही उनका जन्म हुआ और यहीं से उन्होंने पढ़ाई भी की. भगत सिंह के पूर्वज महाराजा रंजीत सिंह की सेना में थे. महाराजा रंजीत सिंह सिक्खों के आखिरी राजा थे.

ऐसा माना जाता है कि भगत सिंह के परदादा फतेह सिंह के पूर्वज अमृतसर के एक गांव में रहा करते थे. एक बार फतेह सिंह अपने परिवार के किसी सदस्य के अस्थि विसर्जन के लिए हरिद्वार जा रहे थे. तब रास्ते में वह जालंधर में एक जमीदार के यहां रुके. जमीदार ने अपनी बेटी की शादी फतेह सिंह के परिवार में तय कर दी.

खट्कड़ कलां में जो भगत सिंह का घर है उसे फतेह सिंह ने ही बनवाया था. इस घर को बनवाने का मकसद यह था कि जो भी लोग यहां आए उनके पास ठहरने की जगह हो. बताया जाता है कि अक्सर छुट्टियों में भगत सिंह अपने दादा अर्जुन सिंह के साथ खट्कड़ कलां में छुट्टियां मनाने आते थे.

ऐसा कहा जाता है कि एक बार खट्कड़ कलां में प्लेग की बीमारी फैल गई. ऐसे में अंग्रेजों ने यहां रहने वालों को लयालपु के बंगा गांव में जमीन दी, इसी कारण भगत सिंह का परिवार बंगा गांव में आकर बस गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here