Sachin Rahul

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव अक्टूबर में होना है. 22 सितंबर से चुनाव की प्रक्रिया भी शुरू हो रही है. इससे पहले सचिन पायलट और अशोक गहलोत को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. देखा जाए तो राजस्थान कांग्रेस में आपसी खींचतान भी बढ़ती हुई दिखाई दे रही है. सचिन पायलट खेमे के कई विधायक उन्हें मुख्यमंत्री बनाने की मांग करते हुए मुखर हो गए हैं. गहलोत गुट के कुछ विधायक भी सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की मांग कर चुके हैं. ऐसे में प्रदेश कांग्रेस में एक बार फिर खींचतान दिखाई दे रही है.

राजस्थान में कांग्रेस की सरकार को रिपीट करने का मुद्दा इन दिनों छाया हुआ है. पायलट समर्थक विधायक कह चुके हैं कि अगर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार को रिपीट करना है तो सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाना होगा, पायलट के पास ही सरकार रिपीट करने का फार्मूला है. प्रदेश के युवाओं की पहली पसंद सचिन पायलट है, पायलट प्रदेश के किसी भी क्षेत्र में जाते हैं तब स्वागत के लिए उमड़ने वाली भीड़ से साफ जाहिर होता है कि लोग उन्हें कितना चाहते हैं. पायलट के जन्मदिन से 1 दिन पहले हुए शक्ति प्रदर्शन में लाखों की संख्या में भीड़ उमड़ी. यह सब बातें पायलट खेमे के विधायक बोल रहे हैं.

आपको बता दें कि राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के जन्मदिन के मौके पर बड़ी संख्या में समर्थक उनके आवास पर जुटे थे. इसमें कांग्रेस के विधायक भी मौजूद रहे. इस मौके पर राजधानी जयपुर से लेकर सचिन पायलट के गृह क्षेत्र और निर्वाचन क्षेत्र तक में उनके समर्थकों ने जश्न मनाया. राजस्थान के कई इलाकों में उनके समर्थकों ने होर्डिंग भी लगाया और पायलट के पीछे एकजुटता दिखाने की कोशिश की. समर्थकों द्वारा पायलट के पक्ष में लामबंद होने के बाद चर्चा चल रही है कि क्या पायलट राजस्थान के मुख्यमंत्री बनने वाले हैं और क्या इसकी वजह से उनके समर्थक दुगने उत्साह में हैं?

सबसे खास बात यह दिखाई दी कि सचिन पायलट के जन्मदिन के मौके पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खेमे के विधायक भी सचिन पायलट को बधाई देने के लिए पहुंचे थे. जन्मदिन के मौके पर जुटी भीड़ को सचिन पायलट की सियासी ताकत के रूप में देखा जा रहा है. राजस्थान में 2023 के आखिर में विधानसभा के चुनाव होने हैं और यह बात किसी से छिपी नहीं है कि सचिन पायलट राजस्थान का मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं. जिस वक्त 2018 में राजस्थान के अंदर कांग्रेस ने बीजेपी से सत्ता छीनी उस वक्त सचिन पायलट कांग्रेस के अध्यक्ष थे और मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार थे.

सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की चर्चाएं ऐसे वक्त पर चल रही हैं जिस वक्त अशोक गहलोत के कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने की अटकलें भी लगाई जा रही हैं. खबरों के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पिछले महीने अशोक गहलोत से कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभालने का आग्रह किया था. पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी चाहते हैं कि अशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष बने. लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या अशोक गहलोत राहुल और सोनिया की बात को मानेंगे और वह राजस्थान का मुख्यमंत्री पद छोड़ देंगे?

आपको बता दें कि इन सब बातों से बेपरवाह राहुल गांधी इस वक्त भारत जोड़ो यात्रा पर हैं. आज यात्रा का पहला दिन था और जनता के बीच इस यात्रा को लेकर जहां जहां से वह गुजरे वहां वहां जबरदस्त उत्साह देखने को मिला है. अब इस यात्रा से कांग्रेस कितनी मजबूत होगी, जनता किस स्तर तक इस यात्रा से जुड़ेगी यह तो आने वाले कुछ वक्त में पता चलेगा ही. लेकिन राजस्थान का मुख्यमंत्री कौन बनेगा या फिर अशोक गहलोत ही रहेंगे और कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष कौन होगा, यह अगले कुछ दिनों में जरूर पता चलेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here