Digvijay Singh Bhopal district panchayat president election 2022

भोपाल जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव (Bhopal district panchayat president election 2022) में नाटकीय घटनाक्रम देखने को मिला. भोपाल जिला पंचायत में बीजेपी ने कांग्रेस समर्थित को अध्यक्ष बनवा दिया. बीजेपी ने क्रॉस वोटिंग करा कर बाजी पलट दी. इस दौरान गहमागहमी का माहौल देखने को मिला. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने मंत्री भूपेंद्र सिंह को रोकने की कोशिश की. इस दौरान पुलिस के साथ उनकी झूमाझटकी भी हुई. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने चुनाव प्रक्रिया को लेकर कोर्ट जाने की बात कही है.

इससे पहले करीब 4 घंटे तक हंगामा चलता रहा. एन वक्त पर कांग्रेस नेता नवरंग गुर्जर की पत्नी रामकुंवर गुर्जर, बिटिया राजौरी और चंद्रेश राजपूत ने पाला बदल लिया. कॉन्ग्रेस हमलावर हो गई. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने इसे गुंडागर्दी बताया तो मंत्रियों ने भी पलटवार किया. नए समीकरण बनने के बाद बीजेपी ने रामकुंवर गुर्जर को अध्यक्ष का कैंडिडेट घोषित किया तो कांग्रेस ने रश्मि भार्गव को मैदान में उतारा.

दोपहर 2.30 बजे के बाद अधिकृत घोषणा होते ही अध्यक्ष को लेकर तस्वीर भी साफ हो गई. अध्यक्ष की कुर्सी पर बीजेपी ने कब्जा जमा लिया. मंत्री भूपेंद्र सिंह दो बार सदस्यों को अपने साथ लेकर पहुंचे. दोपहर 12.15 बजे जब वह कुछ सदस्यों को अपनी गाड़ी में लेकर पहुंचे तो दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) और पूर्व मंत्री सुरेश पचौरी और अन्य नेता उनकी गाड़ी के सामने आ गए. इसी बीच विधायक रामेश्वर शर्मा सदस्यों को लेकर अंदर चले गए.

इनमें कांग्रेस के नवरंग गुर्जर की पत्नी भी थी. गुर्जर के पाला बदलने से अब चुनाव रोचक हो गए. कांग्रेस ने 6 पदाधिकारियों को तत्काल प्रभाव से हटा दिया. दोपहर 2.30 बजे के बाद गुर्जर के अध्यक्ष बनने के बाद मंत्री सिंह, सारंग और विधायक शर्मा उन्हें लेने अंदर पहुंचे. जीत का सर्टिफिकेट लेने के बाद वे गुर्जर को साथ में लेकर आए. मंत्री सारंग नवनिर्वाचित अध्यक्ष गुर्जर को अपनी गाड़ी में बैठा कर ले गए. सभी सीएम हाउस पहुंचे और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की.

क्रॉस वोटिंग करने पर कांग्रेस ने 6 पदाधिकारियों को हटा दिया. इनमें नवनिर्वाचित अध्यक्ष में गुर्जर उनके पति नवरंग गुर्जर भी इसमें शामिल हैं. सभी कांग्रेस और युवा कांग्रेस में पदाधिकारी थे. कांग्रेस ग्रामीण जिला अध्यक्ष अरुण श्रीवास्तव ने इसकी पुष्टि की है. जिला पंचायत चुनाव में सदस्यों की उठापटक को लेकर कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष केके मिश्रा ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, लोकतंत्र की हत्या करने के लिए तैनात भाड़े के हत्यारे यानी कलेक्टर और एसपी इतनी मशक्कत से तो बेहतर होगा कि बीजेपी को निर्विरोध ही जीत घोषित कर दी जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here