Abhinav Pandey
फोटो साभार सोशल मीडिया

मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान लगातार सड़कों पर आंदोलन कर रहे हैं. किसान आंदोलन दिनों दिन बढ़ता जा रहा है. यह बात अलग है कि मीडिया कवरेज दिनों दिन कम होती जा रही है आंदोलन को लेकर.

राकेश टिकैत ने हाल ही में बयान दिया था कि, सरकार लॉकडाउन लगा सकती है लेकिन किसान आंदोलन खत्म नहीं हो होगा. सरकार अपनी तरफ से स्पष्ट कर चुकी है कि तीनों कृषि बिल वापस नहीं होंगे. सरकार संशोधन के लिए तैयार है लेकिन बिल वापस लेने के लिए तैयार नहीं है.

इसी को लेकर एबीपी न्यूज़ के पत्रकार अभिनव पांडे ने अपने ट्विटर हैंडल से एक सवाल पूछा है उन्होंने लिखा है कि एक कठिन सवाल है… आखिर देश का किसान कब तक सड़कों पर रहेगा? क्या समाधान अब संभव ही नहीं है? अभिनव पांडे द्वारा पूछे गए सवाल पर कई तरह के जवाब मिले हैं.

संदीप शुक्ला नामक ट्विटर हैंडल से रिप्लाई किया गया कि अगर 2मई को बंगाल मिल गया तो किसान सड़को पर ही रहेगा और नही मिला तो यह क्या इनकी पूरी सरकार नाक रगड़कर तीनों कानून रद्द करेगी अब बंगाल की जनता के हाँथ है.

इसी तरह अखिलेश तिवारी नामक टि्वटर हैंडल से रिप्लाई किया गया कि यूं सिर्फ बैठे रहनेसे तो समाधान हरगिज नहीं निकलनेवाला. लेकिन, ऐसा भी नहीं है कि किसान इसका भी उपाय न निकाल लिये हों. आखिर में तो सरकार को झुकना ही पड़ेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here