Acharya Pramod Krishnam

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव पर इस समय पूरे देश की नजरें टिकी हुई है. यूं तो पश्चिम बंगाल के अलावा तमिलनाडु, पांडिचेरी, असम और केरल में भी विधानसभा चुनाव है. लेकिन पश्चिम बंगाल का मुकाबला दिलचस्प बना हुआ है.

पश्चिम बंगाल (West Bengal) और असम (Assam) में गुरुवार को विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए वोट डाले जाएंगे. इससे ठीक पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने विपक्षी दलों को चिट्ठी लिखी है और चिट्ठी के माध्यम से ममता बनर्जी ने विपक्षी दलों से अपील की है.

ममता बनर्जी ने यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) समेत तमाम विपक्षी नेताओं से कहा है कि यह एकजुट होने का समय है, क्योंकि बीजेपी लोकतंत्र पर हमला कर रही है. ममता बनर्जी ने गैर बीजेपी नेताओं को व्यक्तिगत रूप से चिट्ठी लिखी है और बीजेपी की नीतियों के खिलाफ एकजुट होने की अपील की है.

इसी को लेकर आचार्य प्रमोद कृष्णम ने एक ट्वीट किया. जिसमें उन्होंने लिखा कि, ममता बनर्जी की चिट्ठी पर विपक्ष को गम्भीर चिंतन करने की ज़रूरत है, सवाल सिर्फ़ बंगाल का नहीं भारत के भविष्य का है, आज दीदी घोर संकट में है कल कोई और हो सकता है, इस लिये भाजपा विरोधी सभी दलों को ममता का समर्थन करते हुए अपने उम्मीदवार हटा लेने चाहिये. साथ में उन्होंने ममता के साथ राहुल गांधी को भी टैग किया.

आचार्य प्रमोद कृष्णम (Acharya Pramod Krishnam) इस ट्वीट को लेकर ट्विटर पर बुरी तरीके से ट्रोल हो गए. एक ट्विटर यूजर ने आचार्य प्रमोद कृष्णम का जवाब देते हुए लिखा कि, तुम ज्ञान न दो, तुम कहाँ कहाँ उंगलियां घी में डाले हो सब जानते हैं, कांग्रेस की क्षेत्रीय दल के अधीन नही है, जो हमारे नेता को स्वीकार करेगा कांग्रेस उसका सहयोग करेगी, बात खत्म.

एक ट्विटर यूजर में राहुल गांधी को टैग करते हुए लिखा कि, राहुल गांधी (Rahul Gandhi) जी आखिर इन लोगों को पार्टी से क्यों नहीं निकाला जा रहा है. आखिर आचार्य प्रमोद कृष्णम इनको, अधीर रंजन चौधरी जी की मेहनत और कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं की मेहनत बंगाल में नहीं दिख रही है जो यह ऐसा बयान दे रहे हैं जिससे पार्टी को नुकसान हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here