Brijesh-Mishra

उत्तर प्रदेश में एबीपी न्यूज़ के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव (Sulabh Srivastava) की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी. सुलभ श्रीवास्तव घायल अवस्था में कटरा रोड के एक ईंट के भट्टे के पास मिले थे. अस्पताल ले जाने पर उनकी मौत हो गई ऐसी आशंका जताई जा रही है कि उन पर हमला किया गया है.

कुछ दिन पहले ही उन्होंने पुलिस को पत्र लिखकर अपनी जान का खतरा बताया था. सुलभ श्रीवास्तव ने 12 जून को ADG और एसपी को पत्र लिखकर जिले में शराब माफियाओं के खिलाफ खबर चलाने के बाद खुद के लिए खतरा बताते हुए सुरक्षा की मांग की थी. सुलभ श्रीवास्तव ने लेटर लिखा था कि अवैध शराब की छापेमारी को लेकर उन्होंने एक स्टोरी कवर की थी. स्टोरी को लेकर शराब माफिया उनसे नाराज थे.

वह जब घर से बाहर निकलते हैं तो अक्सर ऐसा लगता है कि कोई उनका पीछा कर रहा है. सुलभ श्रीवास्तव की मौत को लेकर कुछ सवाल अनसुलझे है. जैसे कि ABP के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत से जुड़े कुछ सवाल सुलभ की एप्लिकेशन पर क्या हुआ? वो कौन थे जिनसे खतरा था, जो पीछा कर रहे थे? हैंडपंप-खम्भे से लड़ने के बाद कपड़े कैसे खुल गए? लाश ईंट भट्ठे के पास मिली. रात में ऐसे इलाके कितने खतरनाक होते हैं, सब जानते हैं.

बताते चलें कि एबीपी न्यूज़ के ही उनके कई साथी इसको हादसा बता रहे थे. जिस संस्थान में वह काम कर रहे थे वह संस्थान भी उनके लिए लड़ाई नहीं लड़ पा रहा था. वह संस्थान भी हत्या है या फिर हादसा, इसी के बीच खबरें दिखा रहा था. इसको लेकर भारत समाचार ने लगातार रिपोर्टिंग की जिसका रिजल्ट अब दिखाई दे रहा है.

भारत समाचार के एडिटर इन चीफ बृजेश मिश्रा ने इसको लेकर एक ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है कि शराब माफिया के टुकड़ो पर पलने वाले लोग टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की हत्या को हादसा बता रहे थे. भारत समाचार ने सच सार्वजनिक कर दिया. प्रतापगढ़ पुलिस ने हत्या की धारा मे मुकदमा दर्ज कर लिया है. उस संस्थान ने भी साथ नही दिया. सुलभ की हत्या हुई. भारत समाचार इंसाफ की लड़ाई जारी रखेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here