कानपुर हिंसा को लेकर जमकर बवाल जारी है. बीजेपी नेताओं के बयानों की खूब चर्चा है. जिनमें कई तरह के विवादित बयान भी शामिल हैं. अब इस पूरे मामले पर बीजेपी की तरफ से बयान जारी किया गया है, जिसमें पार्टी में अपने ही नेताओं के बयानों से किनारा कर लिया है.

बीजेपी ने अपने इस बयान में कहा है कि किसी भी धर्म का अपमान स्वीकार नहीं किया जाएगा. बीजेपी सभी धर्मों का सम्मान करती है और देश के हर नागरिक को ऐसा करना चाहिए. बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा की गई टिप्पणी पर भारी प्रतिक्रिया के बीच बीजेपी ने रविवार को कहा है कि पार्टी किसी भी धार्मिक व्यक्तित्व के अपमान की कड़ी निंदा करती है.

हालांकि बीजेपी के बयान में किसी घटना या टिप्पणी का कोई सीधा जिक्र नहीं है. उन्होंने कहा, भारतीय जनता पार्टी हर उस विचारधारा के खिलाफ है जो किसी भी संप्रदाय या धर्म का अपमान करती है. बीजेपी ऐसे लोगों को बढ़ावा नहीं देती.

प्रेस विज्ञप्ति में बीजेपी ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी को ऐसा कोई भी विचार स्वीकार्य नहीं है जो किसी भी धर्म संप्रदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाए. भाजपा ना ऐसे किसी विचार को मानती है और ना ही प्रोत्साहन देती है. इसमें बीजेपी ने कहा है कि देश के संविधान की भी भारत के हर एक नागरिक के सभी धर्मों का सम्मान करने अपेक्षा है.

bjp

आपको बता दें कि पिछले दिनों बीजेपी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने ऐसी टिप्पणी की थी जिसे लेकर विवाद हो गया था. इस विवाद की प्रतिक्रिया सोशल मीडिया से लेकर जमीनी स्तर तक पर देखने को मिली. कानपुर में नूपुर शर्मा के इसी बयान को लेकर विरोध के दौरान हंगामा हुआ था. इसके अलावा कई मुस्लिम धर्मगुरुओं ने नूपुर शर्मा के इस बयान का विरोध किया था और नूपुर शर्मा के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी.

बीजेपी का स्पष्टीकरण उस दिन आया है जब टिप्पणी के खिलाफ अरब देशों में गुस्से की लहर और भारत की सत्तारूढ़ पार्टी के एक अन्य प्रवक्ता द्वारा हटाए गए ट्वीट को ट्रेंडिंग #टैग के साथ सोशल मीडिया पर फैलाया गया और भारतीय सामानों के बहिष्कार का आह्वान किया गया. नूपुर अब सफाई दे रही हैं कि उन्होंने कोई गलत टिप्पणी नहीं की है. उन्होंने दावा किया है कि उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here