Brajesh Mishra

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार लगातार विज्ञापन के माध्यम से अपना प्रचार प्रसार कर रही है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार दूसरे प्रदेशों में जाकर अपनी पार्टी के लिए चुनाव प्रचार कर रहे हैं. इधर उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कभी बंगाल जाते हैं तो कभी केरल जाते हैं, कभी असम जाते हैं. हर जगह जाकर वह अपनी पार्टी के लिए चुनाव प्रचार लगातार करते रहते हैं और दूसरे प्रदेशों की जनता से भाजपा को मौका देने की अपील करते हैं. इधर टेस्ट हो नहीं रहे हैं जांच हो नहीं रही है, रिपोर्ट आ नहीं रही है. आरोप लग रहे हैं कि आंकड़ों को दबाया जा रहा है.

उत्तर प्रदेश में पिछले दिनों देखने को मिला कि अपराध चरम पर है, महिलाओं के खिलाफ अपराध लगातार बढ़ रहे हैं. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री दूसरे प्रदेशों में जाकर महिलाओं को सुरक्षा देने की बात करते हैं. दूसरे प्रदेश से अपराधियों को खत्म करने की बात करते हैं. लेकिन फिर भी गोरखपुर से लेकर कानपुर लखनऊ तक अपराध चरम पर है और दावे हकीकत से बिल्कुल अलग.

इन सबके बीच कोरोनावायरस महामारी की जकड़न में पूरा देश धीरे-धीरे आ रहा है. उत्तर प्रदेश की हालत बद से बदतर होती जा रही है. जितनी तेजी से होना चाहिए उतनी तेजी से वैक्सीनेशन हो नहीं रहा है. कोविड-19 की जांच हो नहीं रही है रफ्तार काफी धीरे है. जो खबरें आ रही है उसके मुताबिक कोविड-19 से मरने वालों की तादाद लगातार बढ़ रही है.

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने विज्ञापन के माध्यम से कोविड-19 से निपटने के लिए भी खुद को पिछले दिनों सर्वश्रेष्ठ बताया था. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को कोविड-19 से अच्छे से निपटने की नसीहत भी दी थी. लेकिन उत्तर प्रदेश में चिराग तले अंधेरा है.

कोविड-19 से उत्तर प्रदेश की हालत बद से बदतर हो रही है इसी को लेकर भारत समाचार के एडिटर इन चीफ ब्रजेश मिश्रा ने एक ट्वीट किया है. ब्रजेश मिश्रा ने लिखा है कि कोरोना की जांच होती नहीं, एंबुलेंस मिलती नहीं, ऑक्सीजन मिलती नहीं, मरीज भर्ती होते नहीं, श्मशान घाट पर लाशों की कतार! ये शहर-ए लखनऊ है!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here