Amit-Shah

केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के स्टार प्रचारक अमित शाह ने कहा है कि कुंभ मेला हो या फिर रमजान इनमें कोरोना के लिहाज से अमल में लाए जाने वाले नियम और बर्ताव का पालन नहीं हुआ है. यह हो भी नहीं सकता, यही वजह है कि उन लोगों को अपील करनी पड़ी और कुंभ अब सांकेतिक मेला में तब्दील हो चुका है.

गृह मंत्री अमित शाह ने यह सभी बातें “टाइम्स नाउ” से बातचीत के दौरान कही. बकौल अमित शाह पिछले 3 महीनों में हमने राज्यों को विश्लेषण के आधार पर पाबंदी लगाने की मंजूरी दी. हर राज्य अलग किस्म की जंग लड़ रहा है. इससे जुड़ा आकलन राज्य सरकारों को करना पड़ेगा और उनके पास पाबंदी लगाने का अधिकार भी है.

यह राज्यों पर निर्भर करता है कि वह कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए क्या करते हैं. अमित शाह ने आगे कहा है कि चुनाव आयोग सभी दलों से बात कर चुका है और यह फैसला हो चुका है कि चुनाव प्रचार में 1 दिन और कम हो जाएगा और दिन का प्रचार प्रसार शाम 7:00 बजे तक खत्म हो जाएगा.

अमित शाह ने कहा है कि सभी पार्टियों से अपील की गई है कि वह रैलियों में मास्क और सैनिटाइजर मुहैया कराएं और मेरी पार्टी इसकी शुरुआत 17 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से कर चुकी है. वहां हम लोगों ने 5 करोड़ मास्क का वितरण किया पर चुनावी रैली को लेकर क्या होगा यह सिर्फ चुनाव आयोग ही तय कर सकता है.

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह द्वारा की जा रही रैलियों और रोड शो की लगातार आलोचना हो रही है क्योंकि देश में कोरोना का कहर लगातार जारी है स्वास्थ्य व्यवस्था धराशाई हो चुकी है लोगों को अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे हैं जरूरी इंजेक्शंस की किल्लत हो चुकी है कालाबाजारी भी चरम पर है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह की रैलियों और रोड शो में आ रही भीड़ को देखते हुए तमाम बुद्धिजीवी अपील कर रहे हैं कि चुनाव से कहीं अधिक जरूरी लोगों की जान है लोगों की जान रहेगी तो चुनाव आते जाते रहेंगे पार्टियां जीतती रहेंगी हारती रहेंगी सोशल मीडिया पर भी लोग लगातार अपील कर रहे हैं लेकिन भाजपा अपनी रैलियों को रोकने के लिए तैयार नहीं है.

कोरोना जब पहली बार आया था उस समय हर छोटी चीज के लिए PM नरेंद्र मोदी राष्ट्र के नाम संबोधन दे रहे थे, लोगों से अपील कर रहे थे. जैसे जैसे-जैसे कंट्रोल होता गया वैसे वैसे उसका श्रेय भी खुद ले रहे थे. लेकिन इस बार यह कंट्रोल से बाहर है और प्रधानमंत्री मोदी राष्ट्र के नाम कोई संबोधन भी नहीं कर रहे हैं वह अपनी पार्टी का प्रचार कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here