Chanakya Niti

आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) ने मानव समाज के कल्याण से संबंधित कई नीतियां बताई हैं. कहते हैं जो व्यक्ति इन नीतियों को समझकर उनका अपने जीवन में सही प्रयोग करता है उसके सारे दुखों का अंत हो जाता है. चाणक्य ने अपनी नीतियों में राजनीति, सफलता, शिक्षा, स्त्रियों और धन से जुड़ी कई बातें बताई हैं.

यहां हम जानेंगे चाणक्य की उस नीति के बारे में जिसमें कुछ ऐसी बातों के बारे में बताया गया है जिनका ध्यान रखने से धन-धान्य की कभी कमी नहीं होती.

चाणक्य नीति (Chanakya Niti) कहती है कि व्यक्ति को कभी भी धन का अपमान नहीं करना चाहिए. क्योंकि जो व्यक्ति धन का अपमान करता है उसके घर में मां लक्ष्मी का वास नहीं रहता है. इसलिए धन का हमेशा सम्मान करना चाहिए और इसका सही जगह इस्तेमाल करना चाहिए.

चाणक्य नीति अनुसार देवी लक्ष्मी उसी घर में वास करती हैं जहां साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाता है. कई धर्म ग्रंथों में भी इस बात का जिक्र मिलता है. चाणक्य नीति अनुसार जिस घर में क्लेश रहता है वहां मां लक्ष्मी का वास नहीं होता. इसलिए घर में खुशहाली बनाकर रखनी चाहिए.

जिन परिवार के सदस्यों के बीच स्नेह रहता है वहां माता लक्ष्मी विराजती हैं. आचार्य चाणक्य अनुसार अगर चाहते हैं कि मां लक्ष्मी का आशीर्वाद बना रहे तो वाणी में मधुरता होनी चाहिए. क्योंकि कड़वे वचन बोलने वालों पर मां लक्ष्मी की कृपा नहीं रहती.

चाणक्य नीति अनुसार व्यक्ति को अपने सामर्थ्य अनुसार कुछ न कुछ दान जरूर करना चाहिए. शास्त्रों में भी दान का विशेष महत्व बताया जाता है. धार्मिक मान्यताओं अनुसार दान करने से पुण्यों की प्राप्ति होती है. चाणक्य अनुसार जो व्यक्ति ईमानदारी से पैसा कमाता है उसके ऊपर माता लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है.

वहीं जो व्यक्ति गलत तरीके से पैसा कमाता है उसके पास धन अधिक समय तक नहीं टिकता. ऐसे लोग एक न एक दिन परेशानियों में जरूर फंस जाते हैं. चाणक्य कहते हैं जो व्यक्ति धन को हमेशा सोच समझकर खर्च करता है उसी के पास लक्ष्मी लंबे समय तक टिकती है. इसलिए धन फिजूल में न खर्च करें और उसका संचय करने की कोशिश करें.

यह भी पढ़े- 15000 से बिजनेस शुरु कर के 3 महीने बाद ही कमा लेंगे 3 लाख रुपये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here