Abbas modi's friend

इस वक्त सोशल मीडिया पर सबसे अधिक चर्चा प्रधानमंत्री मोदी के मुस्लिम दोस्त अब्बास भाई को लेकर है. प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी मां हीराबेन मोदी के जन्मदिन पर ब्लॉक लिखकर पारस भाई का जिक्र किया था. मोदी ने कहा था कि बचपन में एक तरह से अब्बास हमारे घर में ही रहकर पढ़ा. हम सभी बच्चों की तरह मां अब्बास की भी बहुत देखभाल करती थी, ईद पर मां अब्बास के लिए उसकी पसंद के पकवान बनाती थी.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने जिस दोस्त अब्बास का जिक्र किया था उसका भी पता मीडिया चैनल द्वारा लग गया है. अब्बासी इस समय ऑस्ट्रेलिया के सिडनी शहर में अपने छोटे बेटे के पास रहते हैं. उनके दो बेटे हैं. छोटा बेटा ऑस्ट्रेलिया तो बड़ा बेटा गुजरात के कासीम्पा गांव में रहता है.

अब्बास सरकार में क्लास 2 कर्मचारी के तौर पर काम करते थे. वह फूड एंड सप्लाई विभाग में थे. कुछ महीने पहले ही वह रिटायर हुए हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ब्लॉग में अब्बास का जिक्र करते हुए कहा था कि मां हमेशा दूसरों को खुश देख कर खुश रहा करती थी. घर में जगह भले कम हो लेकिन उनका दिल बहुत बड़ा है. इसके उदाहरण के तौर पर मोदी ने बताया कि हमारे घर से थोड़ी दूर पर एक गांव था जहां मेरे पिताजी के बहुत करीबी मुस्लिम दोस्त रहा करते थे, उनका बेटा था अब्बास.

प्रधानमंत्री मोदी के अनुसार पिताजी के दोस्त की असमय मृत्यु के बाद असहाय अब्बास को हमारे घर पर पिताजी लेकर आए थे. एक तरह से अब्बास हमारे घर में ही रहकर पढ़ा. हम सभी बच्चों की तरह मां अब्बास की भी बहुत देखभाल करती थी. उन्होंने यह बात भी लिखी थी कि हमारे घर के आस-पास जब भी कोई साधु संत आते थे तो मां उन्हें घर बुलाकर भोजन अवश्य कराती थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here