Jagdeep Dhankhar congress

राजस्थान में अगले साल यानी 2023 में विधानसभा चुनाव होने हैं. बीजेपी इसकी तैयारियां पिछले कई महीनों से कर रही है और इसी कड़ी में बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक में राजस्थान से आने वाले पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया है. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल रहते हुए उनका अक्सर ममता बनर्जी के साथ टकराव होता रहा.

लेकिन उन्हें उपराष्ट्रपति का उम्मीदवार घोषित करके बीजेपी ने कहीं ना कहीं राजस्थान पर एक बार फिर से फोकस किया है. राजस्थान के जाट समुदाय से ताल्लुक रखने वाले जगदीप धनकर को उपराष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाकर बीजेपी ने राजस्थान के जाट वोट बैंक के बीच बड़ा संदेश देने की कोशिश की है. वह मूल रूप से राजस्थान के ही रहने वाले हैं. राजस्थान के झुंझुनू के रहने वाले जगदीप धनखड़ सांसद भी रह चुके हैं.

जगदीप धनखड़ 1990 से 1991 तक केंद्रीय मंत्री रहे. आज 16 जुलाई को पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की थी. अब बीजेपी ने उन्हें उप राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है. वह पहले कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा का चुनाव भी लड़ चुके हैं, लेकिन वह चुनाव हार गए थे और साल 2003 में जगदीप धनखड़ बीजेपी में शामिल हो गए.

जगदीप धनखड़ उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार होंगे, इसका ऐलान बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी. नड्डा द्वारा किया गया. बीजेपी अगले साल होने वाले राजस्थान विधानसभा चुनाव की तैयारियों में किस कदर जुटी हुई है, इसका अंदाजा पिछले 6 महीने की गतिविधियों को देखकर लगाया जा सकता है.

लेकिन बीजेपी को राजस्थान विधानसभा चुनावों में नाकाम करने के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कांग्रेस क्या करेंगे यह आने वाला वक्त ही बताएगा. हालांकि जगदीप धनखड़ की उम्मीदवारी भर से बीजेपी राजस्थान जीत नहीं जाएगी. लेकिन उसकी तैयारियों को कहीं ना कहीं पता चलता है. राजस्थान के जाट वोट बैंक को टारगेट करने की बड़ी कोशिश बीजेपी द्वारा की गई है.

जहां तक बात कांग्रेस की है तो चुनाव राजस्थान में सर पर है लेकिन अभी तक कांग्रेस राजस्थान के अंदर एकजुट नहीं हो पाई है. सचिन पायलट के समर्थक उन्हें मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करवाने के लिए जी जान से लगे हुए हैं. वही अशोक गहलोत पूरी कोशिश में है कि सचिन पायलट को फिर से किनारे लगाया जाए. कुल मिलाकर कांग्रेस अगर विधानसभा चुनाव से पहले अपने मुद्दे सुलझा कर एकजुट नहीं हुई तो बीजेपी राजस्थान का विधानसभा चुनाव जीतने में इस बार कोई कसर नहीं छोड़ने वाली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here