Digvijay Singh Jyotiraditya Scindia

मध्यप्रदेश के भोपाल में जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में काफी तनावपूर्ण माहौल देखने को मिला. यहां बीजेपी जैसे तैसे जीत हो गई लेकिन कांग्रेस ने जबरदस्त विरोध किया. इसमें दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) की एक फोटो वायरल हुई जिसमें वह पुलिसकर्मी की कॉलर पकड़े हुए नजर आ रहे हैं. इस फोटो को बीजेपी ने खूब वायरल किया और कहा कि दिग्विजय सिंह ने पुलिस से हाथापाई की और इतने बड़े नेता को यह सब शोभा नहीं देता.

दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने इसको लेकर अपनी बात भी रखी और कहा कि, मैं अहिंसक विचारधारा से जुड़ा हुआ व्यक्ति हूँ. क़ानून का पालन करता हूँ. लेकिन यदि कहीं भी ज़्यादती होती है तो मैं मुक़ाबला करता हूँ. यदि किसी भी पुलिस कर्मी को ऐसा महसूस हुआ है कि उसके साथ बदसलूकी हुई है तो मुझे खेद है.

अब मध्य प्रदेश कांग्रेस के पूर्व नेता और अब बीजेपी की तरफ से केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने भी दिग्विजय सिंह के लिए एक ट्वीट किया है. जिसमें उन्होंने लिखा है कि, मप्र में कांग्रेस की हार का रोष एक बेक़सूर पुलिसकर्मी पर क्यों उतार रहे हैं, राजा साहिब दिग्विजय सिंह जी? इतना ग़ुस्सा आप को शोभा नहीं देता.

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यह ट्वीट दिग्विजय सिंह के लिए किया था. लेकिन यूजर्स ने ज्योतिरादित्य सिंधिया का पुराना वीडियो वायरल कर दिया, जिसमें वह खुद पुलिसकर्मियों से हाथापाई करते हुए दिखाई दे रहे हैं. योगेंद्र सिंह परिहार नामक ट्विटर यूजर ने एक वीडियो पोस्ट किया. जिसमें उन्होंने लिखा कि, सिंधिया जी भाई साहब आदरणीय दिग्विजय सिंह जी ने किसी भी पुलिस अधिकारी का कॉलर नही पकड़ा, आपने झूठी बनाई हुई फ़ोटो पोस्ट की है. लेकिन आप ये बताइए कि ये पुलिस पर हाथ उठाकर झड़प किस खुशी में कर रहे हैं और किस बात का रोष इन बेकसूर पुलिस कर्मियों पर उतार रहे हैं?

योगेंद्र सिंह परिहार के ट्वीट को दिग्विजय सिंह ने रीट्वीट भी किया है. आपको बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस पर निशाना साधने का एक भी मौका नहीं चूकते हैं और इसी क्रम में उन्होंने दिग्विजय सिंह की फोटो ट्वीट की थी. लेकिन शायद यह उनको उल्टा पड़ गया और उनका ही पुराना वीडियो वायरल हो गया, जिसमें वह पुलिस कर्मियों से झड़प करते हुए साफ दिखाई दे रहे हैं.

इसके अलावा दिग्विजय सिंह ने एक और ट्वीट किया है. जिसमें उन्होंने लिखा है कि, अब देश में लड़ाई “बिकाऊ” व “टिकाऊ” के बीच में है. लोकतंत्र बचाना है तो “टिकाऊ” को चुनो. यह बिकाऊ लोग जो जनमत को बेंच रहे हैं वे सही क़ीमत मिलने पर देश को नहीं बेंच देंगे? संघ भाजपा को लोकतंत्र में कभी भरोसा नहीं रहा. लोकतंत्र बचाओ. देश बचाओ.

आपको बता दें कि दिग्विजय सिंह बीजेपी और संघ पर हमलावर रहे हैं. मध्यप्रदेश में जब कांग्रेस की सरकार गिराई गई उस वक्त भी दिग्विजय सिंह की तरफ से बीजेपी पर कई तरह के आरोप लगाए गए थे और उसके बाद से ही वह लगातार मध्य प्रदेश की राजनीति में सक्रिय नजर आ रहे हैं. अब देखना यह होगा कि 2023 के विधानसभा चुनाव में दिग्विजय सिंह कांग्रेस को जीत दिला पाते हैं या फिर बीजेपी बाजी मार लेती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here