Uddhav Thackeray CM

महाराष्ट्र में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) और सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के बीच विवाद के दूसरा अध्याय की शुरुआत हो गई है. राज्यपाल कोश्यारी ने मुंबई के साकीनाका में महिला के साथ हुए रेप और हैवानियत की घटना के बाद राज्य में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार और महिला सुरक्षा पर चिंता व्यक्त करते हुए सीएम ठाकरे को एक पत्र लिखा है.

उन्होंने सीएम उद्धव से इस मुद्दे पर चर्चा के लिए विधानसभा का दो दिवसीय विशेष सत्र बुलाने की मांग की है. राज्यपाल के पत्र का जवाब सीएम उद्धव ठाकरे ने भी देने में देरी नहीं की है. सीएम उद्धव ने राज्यपाल को लिखे तीन पन्ने के पत्र में कहा है कि साकीनाका घटना पर आपने चिंता व्यक्त की है, सरकार भी चिंतित है.

उद्धव ठाकरे ने कहा कि दिल्ली, गुजरात, कश्मीर, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में भी महिलाओं के साथ अत्याचार की घटनाएं हुई हैं. ऐसे में पीड़ित महिलाओं की आपसे अपेक्षाएं हैं, आप पीएम मोदी से गुज़ारिश कर संसद का चार दिवसीय सत्र बुलाकर देश भर में महिलाओं पर हुए अत्याचार पर चर्चा करने की विनती करें.

दरअसल साकीनाका घटना के बाद बीजेपी की महिला विधायकों ने राज्य में बढ़ रहे महिला अत्याचार को लेकर एक निवेदन राज्यपाल को दिया था. जिसके बाद राज्यपाल ने महिला विधायकों की विनती पर सीएम को महिला अत्याचार पर दो दिवसीय विशेष सत्र बुलाने को कहा.

लेकिन राज्यपाल के पत्र का सीएम ने जो उत्तर दिया उस पर बीजेपी महिला विधायकों ने जमकर नाराज़गी जताई है. वहीं, सीएम ने राज्यपाल को लिखे पत्र को मंत्रालय के सामने जलाकर विरोध जताया. बीजेपी महिला विधायक मनीषा चौधरी और भारती लवेकर ने कहां कि सीएम का पत्र देखकर लग रहा है कि ये पूरी तरह राजनीतिक है.

उन्होंने कहा सीएम हमें मुलाकात के लिए वक्त नहीं देते हैं, इसलिए हमने राज्यपाल से मिलने का वक्त मांगा. उन्होंने हमारा मान रखते हुए हमारी बात सीएम से की, लेकिन महिलाओं की संवेदना को छोड़िए सीएम राजनीतिक उत्तर दे रहे हैं. साफ़ है कि सीएम को महिलाओं से कोई लेना देना नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here