Mohammed Zubair news

ऑल्ट न्यूज के सह संपादक मोहम्मद जुबैर (Mohammed Zubair) के वकील ने दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि, दिल्ली पुलिस ने कोर्ट का फैसला आने से पहले ही मीडिया में लीक कर दिया था, जिसके बाद कोर्ट ने जुबेर की जमानत याचिका खारिज कर उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

मोहम्मद जुबैर के वकील ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि कोर्ट की सुनवाई चल रही थी और लंच ब्रेक हुआ था, हालांकि जज अपना फैसला सुरक्षित रख चुके थे. लेकिन अभी वह लंच से वापस सीट पर नहीं आए थे और उसके पहले ही डीजीपी केपीएस मल्होत्रा ने मीडिया में यह जानकारी लीक कर दी कि मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका खारिज हो गई है और उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत के लिए भेज दिया गया.

दूसरी तरफ मोहम्मद जुबैर के वकील सौदिक बनर्जी के आरोप के बाद डीसीपी मल्होत्रा ने सफाई देते हुए कहा कि, उन्होंने मीडिया को गलत तरीके से सूचित किया था कि मोहम्मद जुबैर को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. इससे पहले दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका का फैसला सुरक्षित रख लिया था. 33 वर्षीय पत्रकार को धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप के बाद 2018 के एक ट्वीट पर गिरफ्तार किया गया था.

जुबैर के वकील सौतिक बनर्जी ने मीडिया से कहा कि यह बेहद निंदनीय है और देश में कानून के शासन की बात होती है, लेकिन जज के फैसले सुनाने से पहले ही पुलिस मीडिया को फैसला लीक कर चुकी होती है. उन्होंने कहा कि केपीएस मल्होत्रा कैसे जानते हैं कि आदेश क्या है, यह तो मुझे भी नहीं पता, जबकि मैं जुबैर का वकील हूं. दिल्ली पुलिस की यह हरकत आत्मनिरीक्षण की मांग करती है.

आपको बता दें कि 2018 में किए गए ट्वीट के लिए पत्रकार को गिरफ्तार किया गया है. सोमवार, 27 जून को जुबैर को गिरफ्तार किया गया और ड्यूटी मजिस्ट्रेट ने उन्हें 1 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा था. मंगलवार को पटियाला हाउस कोर्ट ने पुलिस रिमांड को 4 दिन के लिए बढ़ा दिया था. इसके बाद शनिवार 2 जुलाई को पटियाला कोर्ट के मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट ने उनकी जमानत याचिका खारिज करते हुए 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here