Hijab News

कर्नाटक के कुछ स्कूलों से शुरू हुआ हिजाब विवाद (Hijab controversy) अब दूसरे राज्यों तक पहुंच चुका है. मध्य प्रदेश के दतिया में हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने कॉलेज में हिजाब पहनकर आई छात्राओं को देखकर जय श्री राम और वंदेमातरम के नारे लगाए.

इस पूरी घटना का सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो गया है. यह कार्यकर्ता विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल और दुर्गा वाहिनी से जुड़े हुए हैं. जबकि इस कॉलेज का नाम अग्रणी स्वायत्तत सरकारी पीजी कॉलेज है और यह दतिया में है.

इस पूरे मामले में कॉलेज के प्राचार्य डॉ. डीआर राहुल का कहना है कि कॉलेज में कोई भी छात्र या छात्रा धार्मिक कपड़े पहन कर जिनमें हिजाब भी शामिल है नहीं आ सकते.

मध्यप्रदेश के सतना इलाके में ही कुछ दिन पहले एमकॉम की एक छात्रा को बुर्का और हिजाब पहनने की वजह से कॉलेज के सामने माफीनामा लिखना पड़ा था, क्योंकि कुछ छात्र संगठनों ने इस पर ऐतराज जताया था. कुछ दिन पहले पांडुचेरी के एक सरकारी स्कूल में भी एक मुस्लिम छात्रा को हिजाब पहनकर कक्षा में आने की अनुमति नहीं दी गई थी. इसके खिलाफ कुछ छात्र संगठनों ने प्रदर्शन किया था.

जहां से यह हिजाब मामला शुरू हुआ था उस कर्नाटक में इस विवाद के बढ़ने के बाद कई दिन तक स्कूल बंद रहे और जब सोमवार को खुले तो स्कूलों में छात्राओं से हिजाब हटवाया गया और जिन छात्राओं ने हिजाब हटाने से इनकार किया उन्हें वापस लौटा दिया गया.

इस मामले में देश के कई शहरों में प्रदर्शन हो रहे हैं और मुस्लिम समुदाय के लोग बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरे हैं. बीते शुक्रवार को महाराष्ट्र के मालेगांव में हिजाब डे मनाया गया था. यह मामला कर्नाटक हाई कोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंच चुका है और इसे लेकर आ रहे तमाम नेताओं के बयानों के बाद सोशल मीडिया पर भी यह खासा तूल पकड़ चुका है.

देश के अंदर पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव चल रहे हैं और कर्नाटक के हिजाब केस का असर उत्तर प्रदेश के चुनाव में साफ देखा जा सकता है. राजनीतिक पार्टियां इस पूरे मामले पर राजनीतिक लाभ लेने की सोच रही हैं. जहां बीजेपी अपनी रणनीति के हिसाब से इस पर बयानबाजी कर रही हैं, वहीं ओवैसी की पार्टी भी राजनीतिक लाभ के तौर पर इस पूरे मामले को देख रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here