Nupur Sharma

बीजेपी के पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) द्वारा पैगंबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणी को लेकर विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है. पहले अरब देशों ने आपत्ति जताई भारत से माफी मांगने की बात की. वही अब संयुक्त राष्ट्र ने भी भारत को नसीहत देते हुए सहिष्णुता का पाठ पढ़ाया है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस के प्रवक्ता की तरफ से कहा गया है कि हम सभी धर्मों के लिए सम्मान और सहिष्णुता को दृढ़ता से प्रोत्साहित करते हैं.

दरअसल एक पाकिस्तानी पत्रकार ने निलंबित बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा और नवीन कुमार जिंदल द्वारा पैगंबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणियों के लिए संयुक्त राष्ट्र के महासचिव की प्रतिक्रिया मांगी थी. इसके जवाब में संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता ने सोमवार को दैनिक प्रेस वार्ता के दौरान कहा मैंने स्टोरीज देखी है. मैंने खुद टिप्पणी नहीं देखी, लेकिन मेरा मतलब है और मैं आप सबको बता सकता हूं कि हम सभी धर्मों के लिए सम्मान और सहिष्णुता को दृढ़ता से प्रोत्साहित करते हैं.

इस पूरे मामले में कुवैत में भारतीय सामानों का बहिष्कार भी किया जा रहा है. कई ऐसे वीडियो सामने आए हैं जिसमें सुपर स्टोर से भारतीय उत्पादों को हटाया जा रहा है और प्रवक्ताओं द्वारा की गई टिप्पणी की निंदा की जा रही है. अरब देशों की मीडिया इसे डिप्लोमेटिक तूफान की संज्ञा दे रही है. इस पूरे मामले पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री द्वारा ट्वीट किया गया है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर भारत से जवाब मांगा था. हालांकि भारत ने पाकिस्तान को दो टूक जवाब देते हुए कहा कि पहले वह अपने यहां अल्पसंख्यकों के अधिकारों की सुरक्षा करें. वही भारत ने इस्लामिक देशों के संगठन को भी कड़ा जवाब देते हुए उनके बयान पर नाराजगी जाहिर की थी. आपको बता दें कि नूपुर शर्मा को बीजेपी ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से सस्पेंड कर दिया है.

दूसरी तरफ आपको बता दें कि, कुछ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली बीजेपी के कुछ नेता भले ही नूपुर शर्मा और नवीन कुमार पर पार्टी की कार्रवाई से नाराज दिख रहे हो. लेकिन बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि पैगंबर मोहम्मद को लेकर की गई विवादित टिप्पणी पर दोनों प्रवक्ताओं को पार्टी से निलंबित और निष्कासित करने का फैसला अच्छा और ठीक तरह से सोच समझ कर लिया गया है.

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि वरिष्ठ नेताओं ने कहा है कि पार्टी मोदी सरकार की आठवीं सालगिरह के समारोह “गरीब कल्याण कार्यक्रमों” का प्रदर्शन के लिए अपनी गतिविधियों में व्यस्त थी और इसी बीच पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा और दिल्ली बीजेपी के मीडिया सेल के प्रमुख नवीन कुमार जिंदल दोनों ने इस तरह की बयानबाजी की. इससे पहले भी यह नेता पैगंबर और इस्लाम के खिलाफ टिप्पणी कर रहे थे और पार्टी के केंद्रीय कार्यालय की तमाम चेतावनी के बावजूद इस तरह के बयान दिए जा रहे थे.

आपको बता दें कि भारत पर बढ़ते कूटनीतिक दबाव के बीच बीजेपी ने रविवार को दोनों नेताओं के खिलाफ कदम उठाया था. कतर के भारतीय राजदूत ने अपने बयान में सत्तारूढ़ पार्टी के प्रवक्ताओं को “फ्रिंज एलिमेंट” बताया और कहा कि यह भारत सरकार और बीजेपी की राय को परिलक्षित नहीं करते. वही कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नूपुर शर्मा के निलंबन और नवीन कुमार जिंदल के निष्कासन ने बीजेपी के भीतर हलचल पैदा कर दी है.

दोनों नेताओं को लेकर हलचल सिर्फ सोशल मीडिया पर ही नहीं दिख रही है बल्कि जिस तरह से दोनों नेताओं पर कार्यवाही की गई है उसे लेकर संगठन के बीच काफी चर्चा है, ऐसा मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है. नूपुर शर्मा की टिप्पणी और उनके निलंबन के बीच 9 दिनों का अंतर था और मध्य पूर्व देशों के विरोध के बाद ही पार्टी ने कार्रवाई की है. इसका मतलब यही था कि जब तक अंतरराष्ट्रीय मुद्दा नहीं बना तब तक कार्यवाही नहीं हुई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here