Mansiya VP

मानसिया वीपी (Mansiya VP) हिंदू नहीं है. वह भरतनाट्यम नृत्य में सिद्धहस्त है, लेकिन गैर हिंदू होने की वजह से उन्हें मंदिर में भरतनाट्यम की प्रस्तुति करने का उनका कार्यक्रम रद्द कर दिया है.

त्रिशूर जिले के कूडलमाणिक्यम मंदिर में 10 दिनों तक यह महोत्सव होगा. महोत्सव के दौरान विभिन्न कार्यक्रमों में लगभग 800 कलाकार प्रस्तुति देंगे. मानसिया वीपी ने आरोप लगाया है कि केरल के त्रिशूर जिले के मंदिर ने उन्हें गैर हिंदू होने के कारण अपने परिसर में एक निर्धारित कार्यक्रम से रोक दिया है.

उन्होंने कहा है कि यह मंदिर राज्य सरकार के नियंत्रण वाले बोर्ड के अधीन है. उन्होंने इसको लेकर फेसबुक पोस्ट पर अपनी परेशानी को लिखा है. अपनी फेसबुक पोस्ट में उन्होंने कहा है कि उनका नृत्य कार्यक्रम 21 अप्रैल को मंदिर परिसर में आयोजित किया जाना था. मंदिर के एक पदाधिकारी ने मुझे बताया कि मैं मंदिर में प्रदर्शन नहीं कर सकती, क्योंकि मैं एक गैर हिंदू हूं.

Mansiya VP.

उन्होंने लिखा है कि इस बीच मुझे इस बारे में सभी सवालों का सामना करना पड़ रहा है कि क्या मैं शादी के बाद हिंदू बन गई हूं? मेरा कोई धर्म नहीं है. मैं तो धर्मांतरण कहां करा सकती हूं. आपको बता दें कि मानसिया ने संगीतकार श्याम कल्याण से शादी की है.

एक रिपोर्ट के मुताबिक भरतनाट्यम में पीएचडी रिसर्च स्कॉलर मानसिया को पहले मुस्लिम के रूप में पैदा होने और पले बड़े होने के बावजूद शास्त्रीय नृत्य का प्रदर्शन करने वाला कलाकार होने के कारण इस्लामिक मौलवियों के आक्रोश और बहिष्कार का सामना करना पड़ा था.

उन्होंने लिखा है कि कला और कलाकार धर्म और जाति से जोड़ दिए गए हैं. यह अनुभव मेरे लिए नया नहीं है. मैं इसे यहां केवल यह याद दिलाने के लिए दर्ज कर रही हूं कि, हमारे धर्मनिरपेक्ष केरल में कुछ भी नहीं बदला है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here