pappu-yadav

पप्पू यादव पिछले कुछ दिनों से खोजी पत्रकार की तरह बिहार सरकार को बेनकाब करने में लगे हुए थे. पप्पू यादव लगातार बिहार सरकार को बेनकाब कर रहे थे. चाहे एंबुलेंस का मामला हो या फिर बिहार सरकार की दूसरी नाकामी, पप्पू यादव बढ़-चढ़कर उसको जनता के सामने लाकर बिहार सरकार और केंद्र की मोदी सरकार को जनता के सामने बेनकाब कर रहे थे.

उसके बाद गंगा नदी में असंख्य शवों का मामला भी पप्पू यादव ने उठाया था और उत्तर प्रदेश तथा बिहार की डबल इंजन सरकार से सवाल पूछे थे. पप्पू यादव वह काम लगातार कर रहे थे जो देश के पत्रकारों को करना चाहिए था, इससे बिहार सरकार पर सवालिया निशान खड़े हो रहे थे. अब बिहार सरकार ने पप्पू यादव को गिरफ्तार कर लिया है.

गिरफ्तारी के बाद पप्पू यादव ने ट्वीट किया है कि, कोरोना काल में जिंदगियां बचाने के लिए अपनी जान हथेली पर रख जूझना अपराध है, तो हां मैं अपराधी हूं. PM साहब, CM साहब दे दो फांसी, या, भेज दो जेल झुकूंगा नहीं, रुकूंगा नहीं. लोगों को बचाऊंगा. बेईमानों को बेनकाब करता रहूंगा!

पप्पू यादव ने आगे कहा है कि, लॉकडाउन उल्लंघन के नाम पर गिरफ्तारी सरकार ने खुद मार ली अपने पांव पर कुल्हाड़ी. जाग गयी जनता तो मोदी-नीतीश यह आपको पड़ेगी भारी.  बता दें कि गंगा नदी मे मिली लाशों को लेकर पप्पू यादव ने कहा था कि बिहार की सीमा से सटे बीरपुर और बारे गांव में गंगा नदी में 500 से अधिक लाशें कल से ही बह रही है. लेकिन ढोंगी हिन्दू हृदय सम्राट CM को कोई फिक्र नहीं! अबकी बार इनसे अंतिम संस्कार भी नहीं हो रहा है. अब इनकी सरकार का ही अंतिम संस्कार करना होगा.

पप्पू यादव को गिरफ्तार करके पटना के गांधी मैदान थाना लाया गया है. पप्पू यादव को लॉकडाउन उल्लंघन के मामले में गिरफ्तार किया गया है. सोशल मीडिया पर पप्पू यादव की गिरफ्तारी का विरोध हो रहा है. पप्पू यादव को तुरंत रिहा करने की मांग सोशल मीडिया पर की जा रही है. पप्पू यादव महामारी के समय में लगातार जनता की मदद कर रहे थे, जरूरतमंदों तक मदद पहुंचा रहे थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here