PM Modi

बीजेपी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक को प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने संबोधित किया है. उन्होंने खुद ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है, जिसमें उन्होंने बताया था कि वह 10 बजे पदाधिकारियों की इस बैठक में शामिल होकर अपने विचार साझा करेंगे. बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, हमें देश के सामने आने वाली चुनौतियों को पूरा करना है.

प्रधानमंत्री मोदी खुद जयपुर नहीं गए हैं, उन्होंने इस बैठक में वर्चुअल तरीके से हिस्सा लिया है. बीजेपी पदाधिकारियों की इस बैठक में बीजेपी के तमाम बड़े नेता भाग ले रहे हैं, जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी शामिल हैं. प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन से पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने गहलोत सरकार पर जमकर निशाना साधा और कहा कि राजस्थान का नाम गहलोत सरकार के कुशासन के चलते बदनाम हो रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम देख रहे हैं कि आज कुछ पार्टियों का इकोसिस्टम पूरी शक्ति से देश को मुख्य मुद्दों से भटकाने में लगा हुआ है, हमें कभी ऐसी पार्टियों के जाल में फंसना नहीं है. हमें कभी कोई शॉर्टकट नहीं लेना है, हमें देश हित से जुड़े जो भी बुनियादी मुद्दे हैं उस पर आगे बढ़ना है. प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि जब हम बीजेपी के रूप और स्वरूप को देखते हैं तो गर्व होता ही है, लेकिन इसके निर्माण में खुद को खपाने वाले पार्टी के सभी लोगों को मैं नमन करता हूं.

बीजेपी ने बदल दी लोगों की सोच

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि हमारे देश में एक लंबा कालखंड ऐसा रहा जब लोगों की सोच ऐसी हो गई थी कि बस किसी तरह समय निकल जाए, ना सरकार से उनको अपेक्षा थी और ना ही सरकार उनके प्रति अपनी कोई जवाबदेही समझती थी. 2014 के बाद बीजेपी देश को इस सोच से बाहर निकाल कर लाई है. मैं देश के उज्जवल भविष्य को भलीभांति देख रहा हूं. जब मैं आत्मविश्वास से भरे हुए देश के युवाओं को देखता हूं, कुछ कर गुजरने के हौसले के साथ आगे बढ़ती हुई बहन बेटियों को देखता हूं तो मेरा आत्मविश्वास भी कई गुना बढ़ जाता है.

अगले 25 सालों का लक्ष्य

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश की जनता की यह आशा आकांक्षा हमारा दायित्व बहुत बढ़ा देती है. आजादी के इस अमृत काम में देश अपने लिए अगले 25 वर्षों के लक्ष्य तय कर रहा है. बीजेपी के लिए यह समय है अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को तय करने का, उनके लिए निरंतर काम करने का. हमारा दर्शन है पंडित दीनदयाल उपाध्याय का एकात्म मानववाद और अंत्योदय. हमारा चिंतन है डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी की सांस्कृतिक राष्ट्रनीति. हमारा मंत्र है सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here