PM Modi Tejashwi Yadav

बिहार के लिए मंगलवार का दिन बेहद खास रहा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) विधान परिसर के शताब्दी समारोह में भाग लेने पहुंचे थे. इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने बिहार विधानसभा संग्रहालय भवन और अतिथिशाला का शिलान्यास भी किया. वही कार्यक्रम के समापन के बाद कुछ मजाकिया माहौल भी बना. समारोह के बाद जब सभी नेता प्रधानमंत्री मोदी को छोड़ने के लिए बाहर जा रहे थे उसी दौरान मोदी की नजर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) पर पड़ी.

जैसे ही प्रधानमंत्री मोदी की नजर तेजस्वी यादव पर पड़ी प्रधानमंत्री मोदी ने तेजस्वी को सलाह दे डाली और कहा कि आप अपना वजन थोड़ा कम करो. प्रधानमंत्री मोदी की इस बात पर तेजस्वी भी मुस्कुराने लगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसी दौरान तेजस्वी यादव से उनके पिता और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की सेहत के बारे में भी जानकारी ली.

कार्यक्रम के दौरान उनकी संक्षिप्त बातचीत में बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था पर चर्चा हो रही थी इसी दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने तेजस्वी को सलाह दी थी. इसके अलावा आपको बता दें कि विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने प्रधानमंत्री मोदी से जननायक कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देने की मांग की है. उन्होंने कहा है कि ऐसा करके इस शताब्दी वर्ष समारोह एवं देश की किसी भी प्रधानमंत्री के बिहार विधानसभा प्रांगण में प्रथम आगमन को और अधिक यादगार बनाने की कृपा करें.

बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार लोकतंत्र की जननी है, अतः यहां से एक संदेश पूरे देश में जाना चाहिए. हम अलग-अलग दलों से इस विधानमंडल में है लेकिन हमारी वैचारिक प्रतिस्पर्धा राजनीतिक शत्रुता में नहीं बदलनी चाहिए. हमारे राज्य के वैशाली से ही लोकतंत्र बाकी जगहों पर प्रसारित हुआ. अतः मैं आपसे आग्रह करता हूं कि इस स्कूल ऑफ डेमोक्रेसी एंड लेजिसलेटिव स्टडीज जैसी एक संस्था बिहार में स्थापित हो.

इसके अलावा आपको बता दें कि तेजस्वी यादव अपने भाषण के दौरान कई जगहों पर अटकते हुए नजर आए. कई लाइनों को ठीक से पढ़ नहीं पाए. शताब्दी वर्ष के समापन समारोह के दौरान दिए भाषण को लेकर तेजस्वी यादव विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं. बीजेपी और जेडीयू ने निशाना साधा है. भाषण के दौरान तेजस्वी यादव के चेहरे पर तनाव भी साफ झलक रहा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here