Pragya Mishra on agneepath scheme

सोशल मीडिया न्यूज़- अग्निपथ योजना (Agneepath scheme) का युवा लगातार विरोध कर रहे हैं. युवाओं के साथ-साथ मोदी सरकार इस योजना को लेकर विपक्ष के भी निशाने पर हैै. देश के अलग-अलग प्रदेशों से हिंसा की खबरें भी आ रही हैं. तमाम तरह के राजनीतिक दल और उनसे जुड़े हुए नेता भी इस योजना को लेकर युवाओं की बात सुनने की अपील सरकार से कर रहे हैं. लेकिन सरकार ने यह कह दिया है कि इस योजना को वापस नहीं लिया जाएगा.

इस योजना के विरोध में 20 जून यानी सोमवार को कुछ संगठनों ने भारत बंद का ऐलान किया है. इसे लेकर आरपीएफ और जीआरपी हाई अलर्ट पर है. हालिया हिंसा की घटनाओं के बाद आरपीएफ और जीआरपी काफी सतर्कता बरत रहे हैं. लिहाजा आरपीएफ के सीनियर ऑफिसर ने हिंसा करने वाले प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सख्ती से निपटने के आदेश दिए हैं. आदेश में साफ तौर पर कहा गया है कि हिंसा करने वालों के खिलाफ संगीन धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी.

भारत बंद के ऐलान के बाद आरपीएफ और जीआरपी के अधिकारियों ने कहा है कि चप्पे-चप्पे पर बारीकी से नजर रखी जाएगी. अगर कोई भी प्रदर्शनकारी हिंसा करता है तो उसके खिलाफ सख्ती से निपटा जाएगा. भारत बंद के दौरान हर गतिविधि की सतर्कता पूर्वक निगरानी की जाएगी. इसके साथ ही मोबाइल, कैमरा, सीसीटीवी से हिंसा करने वालों के खिलाफ डिजिटल सबूत जुटाने के आदेश दिए गए हैं.

सरकार ने जब इस योजना का ऐलान किया उसके बाद से ही युवा सड़कों पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. कई जगह से हिंसक घटनाएं भी होने की खबरें आई हैं. इसी को लेकर पत्रकार प्रज्ञा मिश्रा (Pragya Mishra) ने एक ट्वीट किया है, जो जमकर वायरल हो रहा है. उन्होंने लिखा है कि, युवाओं की हिंसा ने उनका पक्ष कमज़ोर कर दिया है. जो सवाल सरकार से होने चाहिए थे, जो डिबेट्स सरकार की नीतियों पर होनी चाहीए थीं, जो चर्चाएं अग्निवीरों के भविष्य की होनी चाहीए थीं..वो अब उनके ‘उपद्रव ‘ पर हो रही हैं. आप अग्निवीर नहीं बनना चाहते थे तो उपद्रवी क्यों बन गए ?

Pragya

इस योजना को लेकर रक्षा मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की है. इसमें साफ कर दिया गया है कि अग्निपथ योजना वापस नहीं ली जाएगी और यह भी कि सभी भर्तियां इसी स्कीम के तहत होगी. 25000 अग्निवीरों का पहला बैच दिसंबर में आर्मी जॉइन कर लेगा. लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहां है कि अग्निपथ के विरोध में कोचिंग इंस्टिट्यूट चलाने वालों ने छात्रों को भड़का कर प्रदर्शन कराया है. उन्होंने कहा कि अग्निवीर बनने वाला शपथ पत्र देगा कि उसने कोई प्रदर्शन नहीं किया है, ना तोड़फोड़ की है. बिना पुलिस वेरिफिकेशन के कोई सेना में शामिल नहीं होगा.

इसके अलावा आपको बता दें कि अग्निपथ स्कीम पर फेक न्यूज़ फैलाने वाले 35 व्हाट्सएप ग्रुप पर केंद्र सरकार ने बैन लगा दिया है. दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक इन ग्रुप्स पर अग्निपथ स्कीम को लेकर भ्रामक मैसेज फैलाए जा रहे थे. हालांकि इन ग्रुप्स के एडमिन पर क्या एक्शन लिया गया है, अभी यह स्पष्ट नहीं है. यह एक्शन गृह मंत्रालय ने लिया है. इधर प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली में कार्यक्रम में कहा कि हमारे देश का दुर्भाग्य है कि बहुत ही अच्छी चीजें, अच्छे उद्देश्य से की गई चीजें राजनीति के रंग में फंस जाती हैं.

इसके अलावा आपको बता दें कि बीजेपी के ही सांसद वरुण गांधी ने इस योजना को लेकर अपनी ही सरकार पर हमला बोला है. वरुण गांधी ने इस नीति के खिलाफ चल रहे देशव्यापी विरोध को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा दी जा रही है रियायतों की ओर इशारा करते हुए कहा था कि, यह सब दिखाता है कि इसे तैयार करते समय तमाम बिंदुओं पर विचार नहीं किया गया. उन्होंने कहा कि इस योजना को लाने के महज कुछ घंटे के भीतर इसमें किए गए संशोधन यह दर्शाते हैं कि संभवत योजना बनाते समय सभी बिंदुओं को ध्यान में नहीं रखा गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here