Priyanka Gandhi Smriti Irani

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर तमाम राजनीतिक दल अपने अपने हिसाब से एजेंडा तय करने की कोशिश कर रहे हैं. बीजेपी जहां उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को हिंदू-मुस्लिम और आतंकवाद पर ले जाने की कोशिश कर रही है, तो वहीं प्रियंका गांधी इस चुनाव को महिलाओं के मुद्दे से जोड़ रही हैं, युवाओं के मुद्दों से जोड़ रही हैं, उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर बीजेपी पर हमलावर हैं.

बीजेपी राजनीतिक मूल्यों का त्याग करके इस देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस पर अनर्गल आरोपों की बौछार कर रही है. स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने पिछले दिनों बयान दिया था कि कांग्रेस का नाता आतंकवाद से है. प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने इस पर जबरदस्त पलटवार किया है. एक निजी न्यूज़ चैनल की पत्रकार ने प्रियंका गांधी से इस को लेकर सवाल किया.

एक निजी न्यूज़ चैनल के पत्रकार ने प्रियंका गांधी से सवाल किया कि, आतंकवाद से आपको जोड़ा है स्मृति ईरानी ने, उन्होंने कहा है कि प्रियंका गांधी का नाता आतंकवाद से है. इस पर प्रियंका गांधी गुस्से में लाल दिखाई दी. प्रियंका गांधी ने स्मृति ईरानी के इन आरोपों पर जबरदस्त पलटवार किया है.

प्रियंका गांधी ने स्मृति ईरानी के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा है कि, हां मेरा नाता है आतंकवाद से. मेरे पिता को आतंकवादियों ने मारा और मेरी दादी को भी. मेरा नाता है आतंकवाद से. मेरे परिवार के सदस्य शहीद हुए हैं इस देश के लिए. बंद करिए यह सब कहना.

आपको बता दें कि बीजेपी इस वक्त केंद्र में भी सरकार में है तथा उत्तर प्रदेश की सत्ता में भी वह काबिज है. लेकिन जनता को मूर्ख बनाने के लिए बीजेपी के नेता कांग्रेस के नेताओं पर प्रियंका गांधी पर अनर्गल आरोप लगा रहे हैं. अगर सच में प्रियंका गांधी का नाता किसी आतंकवादी संगठन से है, आतंकवाद से है तो फिर बीजेपी की जांच एजेंसियां क्या कर रही हैं? क्या प्रियंका गांधी आतंकवादियों के संपर्क में है और बीजेपी हाथ पर हाथ रख कर बैठी हुई है?

क्या बीजेपी के नेताओं ने अपने ही देश की जनता को इस कदर मूर्ख समझ लिया है कि, वह प्रियंका गांधी को सीधे आतंकवाद से जोड़ देंगे और जनता उनकी बातों को मान लेगी? जनता सवाल नहीं करेगी कि अगर प्रियंका गांधी का नाता आतंकवाद से है तो आप की जांच एजेंसियां क्या कर रही हैं? आप की सरकार क्या कर रही है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here