Navjot Singh Sidhu News

पंजाब विधानसभा चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन है, इसके बाद चुनाव प्रचार थम जाएगा और गेंद जनता के पाले में रहेगी. 20 फरवरी को ईवीएम के अंदर सभी प्रत्याशियों की किस्मत बंद हो जाएगी. कांग्रेस पंजाब का विधानसभा चुनाव चरणजीत सिंह चन्नी के नेतृत्व में लड़ रही है. कांग्रेस ने पंजाब के अंदर मुख्यमंत्री के चेहरे का ऐलान कर दिया था. लेकिन इस बीच अपने पक्ष में माहौल बनाने के लिए हर पार्टी हर नेता अलग-अलग दांव चल रहा है. ऐसा ही एक दांव पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने चल दिया है.

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू गुरुवार को अमृतसर ईस्ट में अपने लिए वोट मांगने गए थे. उनके समर्थक भी घर-घर जाकर सिद्धू के लिए वोट करने की अपील कर रहे थे. लेकिन उस वक्त कई दरवाजे बंद रहे और लोगों ने बाहर ना आने का फैसला किया. इसके अलावा जब नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी वहां प्रचार करने के लिए गई तो एक शख्स ने गुस्से में कह दिया कि सिद्धू से उन लोगों का कभी कोई संपर्क नहीं हो पाया.

अब जब सिद्धू को अपनी गलती का एहसास हुआ और जमीनी हकीकत पता चली तो उन्होंने तुरंत अपने क्षेत्र के वोटरों से माफी मांग ली. सिद्धू ने कहा कि मेरी सबसे बड़ी गलती यह है कि मैं आप लोगों से सीधा संपर्क नहीं साधा पाया, मैं उन कार्यकर्ताओं से नहीं मिल पाया जो मुझसे सुबह के 1.30 बजे मिलना चाहते थे. मैंने अपनी अमृतसर की जनता को वादा किया है कि इन्हें कभी नहीं छोडूंगा. मैंने अपने लोगों के लिए कैबिनेट की बर्थ भी त्याग दी थी.

सिद्धू ने इसके आगे ऐलान कर दिया है कि अब वह हेलो एमएलए के नाम से एक लैंडलाइन नंबर शुरू करेंगे, जहां पर 1 घंटे के अंदर वह खुद कार्यकर्ताओं और लोगों से संपर्क करेंगे. सिद्धू ने यह तर्क भी दिया कि अब वह पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष हैं, ऐसे में उनके पास ज्यादा ताकत है. उनकी मानें तो अगले 5 सालों में वह अपने क्षेत्र को 100 साल आगे ले जाएंगे.

आपको बता दें कि इस बार अपनी सीट पर कड़ा मुकाबला सिद्दू को मिल रहा है. अकाली दल की तरफ से बिक्रम सिंह मजीठिया चुनाव मैदान में खड़े हैं. वह इस बात से खुश भी हैं कि लोगों ने सिद्धू के आने पर अपने घर के दरवाजे बंद कर दिए. उन्होंने जोर देकर कहा कि जो 5 साल में एक बार भी अपने छेत्र नहीं आया उसे वोट नहीं दिया जा सकता.

आपको बता दें कि मीडिया के अंदर यह हवा बनाई जा रही है कि पंजाब के अंदर आम आदमी पार्टी की सरकार बन सकती है, ऐसी ही हवा 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान बनाई गई थी. लेकिन कांग्रेस के तमाम उठापटक के बावजूद पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस बहुत आगे दिखाई दे रही है. बात अगर सिद्धू की सीट की की जाए तो प्रियंका गांधी ने उनके लिए रोड शो भी किया है, चुनाव प्रचार भी किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here