H. D. Kumaraswamy

मोदी सरकार द्वारा लाई गई स्कीम अग्निपथ के खिलाफ युवाओं का विरोध रुकने का नाम नहीं ले रहा है. विपक्षी पार्टियां भी सरकार को लगातार निशाने पर ले रही हैं. इस बीच कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी (H. D. Kumaraswamy) ने भी इस नई स्कीम पर बीजेपी पर हमला बोला है. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो उन्होंने इस स्कीम की तुलना नाजी आंदोलन से की है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा है कि 10 लाख अग्निवीरों का चयन कौन करेगा? आर.एस.एस. के नेता उन्हें चुनेंगे या सेना उन्हें चुनेगी? चुने गए 10 लाख अग्निवीर आर.एस.एस. की टीम होगी और बाद में चुने हुए ढाई लाख जिन्हें अग्निपथ में रखा जाएगा वह आर.एस.एस. के कार्यकर्ता होंगे. बाकी बचे 75 फ़ीसदी 4 साल बाद भारत में फैला दिए जाएंगे. आर.एस.एस. सेना पर नियंत्रण करना चाहता है और यह आर.एस.एस. का छुपा हुआ एजेंडा है.

उन्होंने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि आप भारत में 75 परसेंट रिटायर्ड फोर्स का इस्तेमाल करेंगे. यह नाजियों की तरह होगा. आर.एस.एस. भारत में नाजी आंदोलन लाने की कोशिश कर रहा है, इसलिए वह अग्निपथ योजना को लाए हैं. भारत में नाजी आंदोलन की शुरुआत अग्निपथ से होगी और अग्निवीरों का इस्तेमाल किया जाएगा.

आपको बता दें कि नाजी आंदोलन जर्मनी के तानाशाह एडोल्फ हिटलर ने शुरू किया था. इसके तहत पूरे जर्मनी को एक पुलिस स्टेट में बदल दिया गया था. हिटलर द्वारा तैनात किए गए लड़ाके पूरे देश में दहशत और आतंक का पर्याय बन गए थे. इन्हीं लड़ाकों के जरिए नाजी जर्मनी में मानव इतिहास का सबसे वीभत्स नर’संहार किया गया था. लाखों यहूदियों को बेरहमी से मार दिया गया था. इन लड़ाकों का प्रयोग हिटलर के खिलाफ आवाज उठाने वालों के खिलाफ भी किया जाता था.

इसके अलावा आपको बता दें कि मोदी सरकार द्वारा लाई जा रही इस स्कीम के खिलाफ कांग्रेस लगातार प्रदर्शन कर रही है. कांग्रेस के साथ-साथ तमाम युवा और दूसरी विपक्षी पार्टियां मोदी सरकार द्वारा लाई गई इसकी इस स्कीम को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. केंद्र सरकार द्वारा लाई गई इस स्कीम के बाद पूरे देश में विद्रोह की एक लहर दिखाई दे रही है. नाराज युवाओं ने सड़कों पर जबरदस्त प्रदर्शन किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here