Sidhu Musewala

पंजाबी सिंगर और कांग्रेस के नेता सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Musewala) अब हमारे बीच नहीं है, सिद्धू की मौत से पूरा देश हैरान हैं. उनके फैंस के बीच मातम छाया हुआ है. वह महज 28 साल के थे इतनी कम उम्र में दिनदहाड़े उनकी निर्मम हत्या की गई. सिद्धू के निधन के बाद उनके सोशल मीडिया पोस्ट और गाने वायरल हो रहे हैं. सिद्धू मूसेवाला का आखिरी इंस्टाग्राम पोस्ट काफी वायरल हो रहा है.

पंजाबी गायक ने यह पोस्ट कुछ दिन पहले किया था. सिद्धूमूसेवाला ने अपने गाने का वीडियो शेयर किया था. इसके कैप्शन में पंजाबी में लिखा था, “इसे भूल जाओ, लेकिन मुझे गलत मत समझो. सिद्धू के आखिरी पोस्ट पर काफी लाइक देखने को मिल रहे हैं. फैंस के बीच सिद्धू का यह पोस्ट वायरल हो रहा है. सिद्धू के इस पोस्ट पर कमेंट करते हुए लोग उनकी आत्मा को शांति मिलने की दुआ कर रहे हैं.

आपको बता दें कि इस साल फरवरी में हुए पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान हर रैली और सड़क के किनारे कि हर बैठक में वह बोलते रहते थे कि मैं कहीं नहीं जाने वाला, मैं कहीं नहीं जा रहा हूं, मैं यहीं रहूंगा और यही मरूंगा. सिद्धू मूसेवाला का दिल अपने गांव मूसा के लिए धड़कता था. इसलिए उन्हें उनके नाम से नहीं बल्कि गांव के नाम से जाना जाता था. वह लोगों को वोट मांगने के लिए गांव गांव जाने के लिए कहते थे.

एक चुनावी सभा में उन्होंने कहा था कि जब मैं 23 साल का था तब मैंने अपने माता-पिता के जीवन को बदलने के लिए एक पेशा (संगीत) चुना था 27 साल की उम्र में मेरे पास अपने माता-पिता को देने के लिए शोहरत और पैसा है लेकिन मैं हवा नहीं खरीद सकता अगर अमीर हो या गरीब हम एक ही हवा में सांस लेते हैं उन्होंने अपने चुनाव प्रचार के दौरान कोई बड़ा वादा नहीं किया था. लेकिन कहा था कि हम जिस हवा में सांस लेते हैं वह हवा साफ होनी चाहिए, जो पानी पीते हैं, जो खाना खाते हैं वह साफ होना चाहिए.

आपको बता दें कि सिद्धू ने कैंसर के लिए भी काम किया है. वह अपने गांव में सालाना फ्री कैंसर कैंप का आयोजन करते थे. उन्होंने एक बार कहा था हम 2800 लोगों का एक छोटा सा गांव है, लेकिन हर साल कम से कम 6 से 8 लोगों को कैंसर का पता चलता है. यह सब हमारी मिट्टी और हवा में मौजूद गलत चीजों के कारण है. उन्होंने खुद को एक किसान के रूप में भी पसंद किया और संगीत से अपनी अच्छी कमाई का उपयोग करके जमीन में निवेश किया.

आपको बता दें कि पंजाबी सिंगर और कांग्रेसी नेता की गोली मारकर हत्या कर दी गई. जिसके बाद पंजाब पुलिस ने बताया है कि इस हत्या के पीछे गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और उसके सहयोगियों का हाथ है. आपको बता दें कि एक 31 वर्षीय लॉरेंस बिश्नोई 2017 से राजस्थान की भरतपुर जेल में बंद है. उस पर हत्या के प्रयास, घुसपैठ, डकैती और हमले सहित आईपीसी की कई धाराओं के तहत अपराधों का आरोप लगा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here