Sri Lanka

श्रीलंका (Sri Lanka) में आर्थिक हालात से त्रस्त जनता ने शनिवार को राष्ट्रपति के आवास पर कब्जा कर लिया. वहीं राष्ट्रपति अपना आवास छोड़कर भाग गए हैं. इस बीच हालात काबू में करने के लिए श्रीलंका के मौजूदा प्रधानमंत्री ने पार्टी नेताओं की आपात बैठक बुलाई है. प्रदर्शनकारियों ने राजपक्षे के आधिकारिक आवास पर घुसकर जमकर तोड़फोड़़ भी की है.

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राष्ट्रपति राजपक्षे सुरक्षित जगह पर चले गए हैं. हालांकि राष्ट्रपति कहां है इस बारे में अभी कोई जानकारी सामने नहीं आई है. कोलंबो में तनाव की स्थिति बनी हुई है. प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए सेना तैनात की गई है. सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे हैं और हवा में फायरिंग भी की है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस की कार्यवाही में कई लोग घायल भी हुए हैं और उन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया है. जो वीडियो फुटेज सामने आए हैं उनमें प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति भवन में लगी कुर्सियों पर बैठे और स्विमिंग पूल में नहाते हुए दिखाई दे रहे हैं. श्रीलंका में बढ़ती कीमतों और जरूरी सामान की कमी के विरोध में लंबे समय से विरोध प्रदर्शन जारी है.

इन सबके बीच श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर सनथ जयसूर्या भी प्रदर्शनकारियों के बीच गए हैं. उन्होंने प्रदर्शनकारियों के साथ कुछ तस्वीरें भी ट्विटर पर शेयर की है. उन्होंने लिखा है कि वह श्रीलंका के लोगों के साथ खड़े हैं और जल्द ही जीत का जश्न मनाएंगे. इसे बिना किसी रूकावट के जारी रखा जाना चाहिए.

आपको बता दें कि श्रीलंका का आर्थिक संकट वहां के विदेशी मुद्रा भंडार के तेजी से घटने के कारण पैदा हुआ है. कई लोगों का आरोप है कि ऐसा वहां की सरकार की आर्थिक हालात को सही से हैंडल ना करने और महामारी के प्रभाव की वजह से हुआ है. विदेशी मुद्रा भंडार की कमी की वजह से श्रीलंका जरूरी सामानों का आयात नहीं कर पा रहा है.

श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर जयसूर्या ने कहा है कि उन्होंने कभी भी देश को इस तरह एकजुट नहीं देखा कि एक असफल नेता को बाहर निकालने के लिए लोग सड़कों पर आ गए. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के इस्तीफे की मांग कर रहे हजारों श्रीलंकाई प्रदर्शनकारियों ने शनिवार को बैरिकेड तोड़कर कोलंबो में उनके आधिकारिक आवास में प्रवेश किया. उन्होंने कहा कि मैं हमेशा अपने लोगों के साथ खड़ा हूं.

आपको बता दें कि जयसूर्या के अलावा पूर्व विकेटकीपर कुमार संगकारा और महान बल्लेबाज महिला जयवर्धने राजपक्षे के खिलाफ मुखर रहे हैं और उन्होंने आंदोलन को समर्थन दिया है. मार्च से इस्तीफे की मांग का सामना कर रहे राजपक्षे राष्ट्रपति भवन को अपने आवास और कार्यालय के रूप में इस्तेमाल कर रहे थे. क्योंकि प्रदर्शनकारी अप्रैल की शुरुआत में उनके कार्यालय के प्रवेश द्वार पर कब्जा करने आए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here