pappu-yadav

बिहार में कोरोना महामारी के केस बढ़ने के साथ ही नीतीश सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पर आती जा रही है. बिहार में भाजपा गठबंधन की सरकार है, नीतीश कुमार मुख्यमंत्री हैं. इसलिए निशाने पर भाजपा भी है.

पप्पू यादव ने भाजपा सांसद राजीव प्रताप रूडी के कार्यालय पर पहुंचकर वहां खड़ी एंबुलेंसो को लेकर बवाल खड़ा कर दिया था. बतौर सबूत पप्पू यादव ने वीडियो भी शेयर किया था. इसके बाद भाजपा सांसद राजीव प्रताप रूडी को सफाई भी देनी पड़ी. राजीव प्रताप रूडी द्वारा दी गई सफाई को पप्पू यादव ने कोरी बहानेबाजी करार दिया. दरअसल पप्पू यादव हाल ही में छपरा पहुंचे थे.

उन्होंने वहां भाजपा नेता राजीव प्रताप रूडी के अमनौर कार्यालय का दौरा किया और वहां करीब एक दर्जन एंबुलेंस के टेंट तिरपाल में खड़ी होने की बात कही. उन्होंने खड़ी एंबुलेंससो का एक वीडियो भी ट्विटर पर जारी किया था. वीडियो जारी करते हुए उन्होंने लिखा था कि बीजेपी के पूर्व केंद्रीय मंत्री राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी जी के कार्यालय परिसर में दर्जनों एंबुलेंस बरामद सांसद विकास निधि से खरीदा गया एंबुलेंस किसके निर्देश पर यहां छिपाकर रखा गया है, इसकी जांच हो. सारण डीएम सिविल सर्जन यह बताएं! बीजेपी जवाब दें!

पूर्व केंद्रीय मंत्री रूडी ने पप्पू यादव के आरोप पर जवाब दिया. उन्होंने बताया कि जिले में लगभग 80 एंबुलेंस में से लगभग 56 संचालन में हैं. कई जगहों पर पंचायत की एंबुलेंसों को चालकों ने छोड़ दिया था. इसके बावजूद पर्याप्त एंबुलेंस चल रही हैं. उन्होंने पप्पू यादव पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा, पप्पू यादव आप सभी एंबुलेंस ले जाइए. लेकिन सारण की जनता को कसम देकर जाइए कि सभी एंबुलेंस पर ड्राइवर देंगे और उन्हें संचालित करेंगे. मैं सभी गाड़ी देने को तैयार हूं. राजनीति करना हो तो मधेपुरा में करें, सारण में नहीं.

हालांकि, रूडी के जवाब पर पप्पू यादव उन पर हावी हो गए. वे ड्राइवरों की एक पूरी टीम लेकर मीडिया के सामने पहुंच गए. उन्होंने दावा किया कि उनके पास 40 ड्राइवर हैं, इन सभी का नाम लिखकर सरकार के पास भेजा जाएगा. कई एंबुलेंस आज छपरा के लिए रवाना होंगी और पप्पू यादन इन एंबुलेंस का खर्चा उठाएंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here