T20 World Cup Virat

न्यूजीलैंड की अफगानिस्तान के खिलाफ जीत के साथ ही टीम इंडिया के सेमीफाइनल में क्वालिफाई करने का सपना सिर्फ एक सपना बनकर ही रह गया. इस मैच में कीवी टीम हारती तो ही भारत टॉप-4 में आगे बढ़ सकता था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. इस वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने ऐसे फैसले लिए जो समझ के परे थे.

आईए उन सभी गलतीयों के बारे में आपको बताते हैं.

भारतीय टीम इस T20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup) में सबसे कमजोर प्लानिंग के साथ उतरी टीम नजर आई. पाकिस्तान के खिलाफ पहले मैच में रोहित-राहुल ने ओपनिंग की. अगले ही मैच में राहुल और ईशान किशन ओपनिंग के लिए आए. दो अहम मैच में बैंटिग ऑर्डर में बदलाव किसी को समझ नहीं आया. राहुल और ईशान ने इससे पहले कभी एक-साथ पारी की शुरुआत नहीं की थी. विराट टूर्नामेंट में किस क्रम पर खेलेंगे इस बात को लेकर भी उधेरबुन था. वर्ल्ड कप से ठीक पहले तक विराट ओपनिंग की तैयारी करते रहे. पूरे IPL में वे उन्होंने ओपनिंग की. लेकिन, वर्ल्ड कप के पहले मैच में नंबर-3 पर आए और अगले मैच में नंबर-4 पर.

टी-20 वर्ल्ड कप 2021 में सेमीफाइनल में पहुंची चारों टीमों के पास कमाल के लेग स्पिनर हैं. भारत के खिलाफ पहले मैच में पाकिस्तान के शादाब खान ने 4 ओवर में सिर्फ 22 रन दिए और एक विकेट भी निकाला. वहीं, अगर दूसरे मुकाबले की बात करें तो न्यूजीलैंड के ईश सोढी ने तो भारतीय बल्लेबाजों की कमर तोड़ कर रख दी थी. उन्होंने 4 ओवर में सिर्फ 17 रन दिए और 2 विकेट अपने नाम किए. वो भारत के खिलाफ मुकाबले में मैन ऑफ द मैच भी थे.

इनके आलावा अब तक टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया के एडम जम्पा और इंग्लैंड के आदिल रशिद ने भी कमाल की गेंदबाजी की है. लेकिन टीम इंडिया ने एक भी मैच में अपने लेग स्पिनर को मौका नहीं दिया. राहुल चाहर पूरे टूर्नामेंट में केवल दर्शक बने रहे. वहीं, पिछले चार साल से टी-20 में टीम इंडिया के सबसे सफल गेंदबाज में से एक रहे युजवेंद्र चहल का तो टी-20 वर्ल्ड कप के लिए चयन भी नहीं किया गया.

IPL में भारतीय खिलाड़ी अलग-अलग टीमों का हिस्सा थे. वर्ल्ड कप में ये एक यूनिट की तरह नहीं खेल पाए. टेस्ट क्रिकेट में जिस तरह का तालमेल ये दिखाते रहे हैं उसका 10% भी इस टूर्नामेंट में नहीं दिखा सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here