Imran

पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार रात को फैसला सुनाया कि प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के खिलाफ विपक्ष द्वारा लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को खारिज करने के लिए नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर का फैसला असंवैधानिक था. अदालत ने यह भी कहा कि राष्ट्रपति डॉ आरिफ अल्वी (Dr. Arif Alvi) ने जिस तरह इमरान खान के कहने पर नेशनल असेंबली को भंग किया वह भी गैरकानूनी है.

पाकिस्तानी असेंबली का सत्र शनिवार को बुलाया जाए, ऐसा फैसला पाकिस्तान की अदालत ने सुनाया है. फैसला आने से पहले प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि अदालत का जो भी फैसला आएगा उन्हें मंजूर होगा, अदालत के निर्देशानुसार कार्रवाई आगे बढ़ेगी.

फैसले से पहले सुनवाई के दौरान जिस तरह चीफ जस्टिस और अन्य जजों की टिप्पणियां आ रही थी उससे लगा था कि फैसला इमरान खान सरकार के खिलाफ आएगा. फैसला सुनाने से पहले सुप्रीम कोर्ट ने मुख्य चुनाव आयुक्त सिकंदर सुल्तान राजा को तलब किया. अदालत ने उनसे पूछा कि आम चुनाव कितने दिनों में कराए जा सकते हैं?

पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया कि राष्ट्रपति डॉ आरिफ अल्वी के नेशनल असेंबली को भंग करने का निर्णय अवैध था. सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को सुबह 10:30 बजे नेशनल असेंबली का सत्र फिर से बुलाने का आदेश दिया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के निष्कर्ष के बिना सत्र को स्थगित नहीं किया जा सकता है.

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद अब यह तय हो चुका है कि इमरान खान की कुर्सी जाने वाली है. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद विपक्ष में जश्न है. इमरान खान ने अपने समर्थकों से शांति बनाए रखने की अपील की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here