Nupur Sharma

पैगंबर मोहम्मद पर विवादित बयान देने के मामले में बीजेपी से निलंबित की गई प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) का बयान आया है. उन्होंने अपनी टिप्पणी को लेकर माफी मांगी है. साथ ही कहा है कि मैं अपने शब्द वापस लेती हूं. उन्होंने कहा है कि मेरी मंशा किसी को ठेस पहुंचाने की नहीं थी. अगर मेरे शब्दों से किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचती है तो मैं अपने शब्द वापस लेती हूं.

उन्होंने कहा कि रोजाना मेरे आराध्य शिवजी का अपमान किया जा रहा था. मैं शिवजी के अपमान को बर्दाश्त नहीं कर पाई. मैंने रोष में आकर कुछ चीजें कह दी. वहीं कार्यवाही के तुरंत बाद नूपुर शर्मा ने अपील करते हुए कहा कि उनके घर का पता सार्वजनिक ना किया जाए, इससे उनके परिवार की सुरक्षा को खतरा है.

नूपुर शर्मा पर कार्रवाई से पहले बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में पार्टी ने कहा था कि भारतीय जनता पार्टी को ऐसा कोई भी विचार विकृत नहीं है जो किसी भी धार्मिक संप्रदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाए. भाजपा ना ऐसे किसी विचार को मानती है और ना ही प्रोत्साहन देती है.

विवादित बयान पर कार्यवाही की वजह?

विवादित बयान पर लगातार हो रहे विरोध के बाद बीजेपी नेता विपक्ष के निशाने पर हैं. वहीं बीजेपी ने नूपुर शर्मा को सस्पेंड कर दिया है तथा नवीन जिंदल को पार्टी से निष्कासित कर दिया है. इस पर जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने बीजेपी की इस कार्रवाई पर कटाक्ष किया है. उन्होंने रविवार को कहा कि भाजपा अचानक जाग गई है. इसका मुसलमानों की भावनाओं से कोई लेना-देना नहीं है. वह अंतरराष्ट्रीय ऑडियंस को फोकस करते हुए इस तरीके की कार्रवाई कर रही है.

आपको बता दें कि नूपुर शर्मा बीजेपी की प्रवक्ता थी और अक्सर टीवी डिबेट में पार्टी का पक्ष रखते हुए नजर आती थी. हाल ही में उन्होंने एक टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर के विवाह को लेकर गलत टिप्पणियां की, जिसके कोई ऐतिहासिक प्रमाण तक मौजूद नहीं है. इतना ही नहीं इसके बाद नूपुर और बीजेपी दिल्ली यूनिट के मीडिया प्रभारी नवीन जिंदल ने उकसाने वाले ट्वीट भी किए.

यह सारा तमाशा पिछले 10 दिनों से चल रहा था. लेकिन पार्टी ने चुप्पी साधी हुई थी. जबकि देशभर में प्रदर्शन हो रहे हैं. हाल ही में कई देशों ने पैगंबर पर की गई टिप्पणियों पर नाराजगी जताई थी. नवीन जिंदल के ट्वीट पार्टी के लोग भी पसंद नहीं कर रहे थे.

बीजेपी को अरब देशों के दबाव में झुकना पड़ा और उसने रविवार को अपनी प्रवक्ता नूपुर शर्मा के बयान से दूरी बना ली थी. उसे प्रवक्ता पद से हटाने के बाद पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी निलंबित कर दिया. नूपुर के खिलाफ देश में कई जगह एफआईआर दर्ज की गई है. मुस्लिम जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं. लेकिन बीजेपी का यह बयान और एक्शन उसी वक्त आया है जब देश में कई जगह अशांति और तनाव बना, विदेश में भारत की छवि खराब हुई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here