Yogi Adityanath 2022 UP

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) 2022 विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जी जान से जुड़ चुके हैं और वह विपक्ष को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं.

विपक्ष लगातार जनता के मुद्दों पर उत्तर प्रदेश योगी सरकार की नाकामियों को उजागर करने का काम कर रहा है. तो वहीं उत्तर प्रदेश की पूरी सरकार और खास तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनता के मुद्दों से दूर हिंदू- मुसलमान, पाकिस्तान, जिन्ना और गैर जरूरी मुद्दों को हवा देकर विपक्ष के द्वारा उठाए जा रहे मुद्दों को दबाने की कोशिश कर रहे हैं.

इसी कड़ी में योगी आदित्यनाथ ने अपने ट्विटर से एक वीडियो पोस्ट किया है और लिखा है कि विपक्ष के पास मुद्दा नहीं है. वह सरदार पटेल का अपमान करना चाहता है. राष्ट्रनायक सरदार पटेल एक ओर हैं और दूसरी तरफ इस राष्ट्र को तोड़ने वाले जिन्ना हैं. वे जिन्ना का समर्थन करते हैं, हम सरदार पटेल का समर्थन करते हैं.

योगी आदित्यनाथ द्वारा किए गए इस ट्वीट पर और संबोधन पर कई सवाल उठाए जा सकते हैं. क्या सच में विपक्ष के पास मुद्दा नहीं है? विपक्ष लगातार महामारी के दौर में सरकार की असफलताओं को मुद्दा बना रहा है, उत्तर प्रदेश की बेरोजगारी को मुद्दा बना रहा है, उत्तर प्रदेश की कानून अवस्था को मुद्दा बना रहा है, उत्तर प्रदेश में महंगाई को मुद्दा बना रहा है. योगी आदित्यनाथ इन मुद्दों पर बात करने से क्यों बच रहे हैं?

जिस सरदार पटेल की बात उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कर रहे हैं, उसी सरदार पटेल ने संघ पर प्रतिबंध लगाया था. जिस सरदार पटेल और देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के बीच मनगढ़ंत मतभेद की बातें बीजेपी करती है उस सरदार पटेल ने कभी संघ का, सावरकर का, गोलवलकर का या बीजेपी के किसी भी पूर्वज का समर्थन नहीं किया.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को जनता के मुद्दों पर महंगाई से लेकर रोजगार और स्वास्थ्य तथा उत्तर प्रदेश की बदहाल कानून व्यवस्था पर बात करने से आखिरी डर क्यों लग रहा है? इन्हीं मुद्दों पर चुनाव क्यों नहीं लड़ रहे हैं? उत्तर प्रदेश की बदहाल कानून व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री झूठ क्यों बोल रहे हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here