Hardik Patel

हार्दिक पटेल (Hardik Patel) ने कांग्रेस छोड़ते वक्त सोनिया गांधी को एक पत्र लिखा, जिसमें उन्होंने राहुल गांधी पर हमला करने के साथ-साथ इस्तीफा दे दिया. अभी तक हार्दिक पटेल ने अपने अगले कदम के बारे में कोई भी खुलासा नहीं किया है लेकिन उन्होंने इस्तीफा देते वक्त जिन मुद्दों का जिक्र किया उससे उनकी नजदीकियां बीजेपी से साफ झलक रही है. तथा उन्होंने इस्तीफे के बाद जो इंटरव्यू दिए हैं, उसमें जो बातें कही हैं अदानी और अंबानी को लेकर उससे भी उनकी नजदीकियां बीजेपी से दिखाई दे रही हैं.

हार्दिक पटेल (Hardik Patel) के पास आम आदमी पार्टी ज्वाइन करने का भी विकल्प है. लेकिन गुजरात में अरविंद केजरीवाल की पार्टी अभी पैर जमाने की कोशिश कर रही है, इसलिए वहां हार्दिक के लिए संभावनाएं कम ही नजर आती हैं. क्योंकि आम आदमी पार्टी के लिए बिना किसी बड़े चेहरे के गुजरात विधानसभा चुनाव में अपनी उपस्थिति दर्ज कराना ही बड़ी चुनौती है. आसान शब्दों में कहा जाए तो फिलहाल सारे संकेत यही है कि हार्दिक पटेल जल्द ही बीजेपी में नजर आ सकते हैं.

बीजेपी में शामिल होना आसान नहीं है Hardik Patel के लिए

पिछले दिनों ही हार्दिक पटेल (Hardik Patel) ने बीजेपी की तारीफ करते हुए कहा था कि गुजरात में बीजेपी का मजबूत आधार है, उनके पास फैसले लेने की क्षमता है. हमें दुश्मन की ताकत को स्वीकार करना चाहिए. इतना ही नहीं उन्होंने खुद को गर्वित हिंदू बताते हुए भगवान राम को मानने वाला बताया था, हालांकि इसमें कोई बुराई नहीं है. लेकिन हार्दिक पटेल की बातों के बाद गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष सीआर पाटिल ने भी हार्दिक पटेल की तारीफ की थी और कहा था कि यह अच्छा है कि उन्होंने सार्वजनिक रूप से इसे कहने का साहस दिखाया बहुत लोग ऐसा नहीं करते हैं.

हार्दिक पटेल (Hardik Patel) का पाटीदार आंदोलन से पहले बीजेपी से करीबी संबंध रहा है. दरअसल उनके पिता RSS से जुड़े हुए रहे हैं. लेकिन पाटीदार आंदोलन के दौरान उनके पिता ने बीजेपी और आरएसएस एक निश्चित दूरी बना ली थी. आसान शब्दों में कहा जाए तो हार्दिक पटेल एक ऐसे परिवार से आते हैं जो लंबे समय तक बीजेपी का समर्थक रहा है. हालांकि बीजेपी में शामिल होना हार्दिक पटेल के लिए इतना आसान नहीं होने वाला है.

बीजेपी के प्रादेशिक नेतृत्व में स्थापित पाटीदार नेताओं की ओर से उनका विरोध किया जा सकता है. वैसे माना जाता है कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद भी गुजरात पर अपनी पकड़ बनाए रखते हैं. तो हार्दिक पटेल (Hardik Patel) को बीजेपी में शामिल होने से पहले मोदी शाह की जोड़ी के सामने स्क्रीनिंग से गुजरना होगा. अगर हार्दिक पटेल बीजेपी में शामिल होते हैं तो इस साल के अंत में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी को कितना फायदा होगा यह तो आने वाले वक्त में ही पता चलेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here