Srishti Goswami

राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर उत्तराखंड में रविवार को त्रिवेंद्र सिंह रावत की जगह सृष्टि गोस्वामी को सांकेतिक तौर पर एक दिन के लिए मुख्यमंत्री बनाया गया. अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, सृष्टि ने राज्य सरकार की कई योजनाओं की समीक्षा के लिए एक आधिकारिक बैठक में हिस्सा भी लिया है.

इस बैठक के दौरान त्रिवेंद्र सिंह रावत भी मौजूद रहे. भारत में हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है, जो महिला और बाल विकास मंत्रालय की एक पहल है. इस मौके पर रावत ने ट्वीट कर कहा है, राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर सभी बेटियों को उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए हार्दिक शुभकामनाएं. सभी बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने और उनके सशक्तिकरण के लिए हमारी सरकार दृढ़ संकल्पित है.

कौन हैं सृष्टि गोस्वामी?

अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, सृष्टि B.Sc एग्रीकल्चर की छात्रा हैं. वह हरिद्वार जिले के दौलतपुर गांव की निवासी हैं. उन्होंने बताया कि वह कृषि क्षेत्र पर सरकार को अपने इनपुट देना चाहेंगी, जिससे राज्य की 65 फीसदी से ज्यादा आबादी की आजीविका को समर्थन मिलता है.

उत्तराखंड बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने उनको लेकर मुख्य सचिव ओमप्रकाश को लिखा था, 24 जनवरी को आयोग ने लड़कियों के सशक्तीकरण के लिए एक होनहार छात्रा की नियुक्ति मुख्यमंत्री के रूप में की है. उत्तराखंड की मुख्यमंत्री के तौर पर सृष्टि गोस्वामी नामित विभागों के अधिकारियों के साथ बाल विधान सभा के दौरान विकास के कामों की समीक्षा करेंगी.

इस मामले पर सृष्टि गोस्वामी ने एएनआई से कहा, मुझे खुशी है कि मुझे बालिका दिवस पर मुख्यमंत्री बनने का सौभाग्य मिला है. मैं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री का दिल से आभार व्यक्त करती हूं. बाद में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए सृष्टि ने अपनी तुलना फिल्म ‘नायक’ के हीरो से किए जाने पर कहा कि वह तो सिनेमा था और असल जीवन में बाल मुख्यमंत्री बनकर वह बहुत उत्साहित महसूस कर रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here