Dheerendra Shastri Shankaracharya Swami Avimukteshwaranand Saraswati

भारत में अब धर्म सेंसर बोर्ड का गठन किया जा चुका है, जो फिल्मों में धार्मिक पहलू को सेंसर करने का काम करेगा. इस बोर्ड के मुखिया ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने शनिवार को छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में पत्रकारों से यह जानकारी साझा की. उन्होंने कहा कि भारत में सेंसर बोर्ड अपना काम कर रहा है. सेंसर बोर्ड अगर ना होता तो जाने कितनी मनमानी हो जाती.

बागेश्वर धाम पर बोले

शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती (Shankaracharya Swami Avimukteshwaranand Saraswati) ने रायपुर में दरबार लगाकर चमत्कार दिखा रहे बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री (Dheerendra Shastri) को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि चमत्कार दिखाने वाले उनके जोशीमठ के मकानों में आई दरारों को चमत्कार से भर दें तो वह उनका स्वागत करेंगे. उन्होंने कहा हम उनके लिए फूल बिछा देंगे कि आप यह जो हमारे मकान में दरार आ गई है, हमारे मठ में आ गई है, उसे जोड़ दो.

शंकराचार्य ने कहा कि सारे देश की जनता चमत्कार चाहती है कि कोई चमत्कार हो जाए. कहां हो रहा है चमत्कार. जो चमत्कार हो रहे हैं अगर जनता की भलाई में उनका कोई विनियोग हो तो हम उनकी जय-जयकार करेंगे, नमस्कार करेंगे. नहीं तो यह चमत्कार छलावा है, इससे ज्यादा कुछ नहीं है. उन्होंने कहा कि अगर किसी के पास कोई अलौकिक शक्ति आ गई है और जादूगर की तरह छड़ी घुमा कर अचानक कुछ कर सकते हैं तो उन्हें क्या करना. चाहिए हम लोग तो ऐसा चमत्कार नहीं जानते.

शंकराचार्य ने कहा कि ऐसा कोई चमत्कारी पुरुष है तो लोगों की आत्महत्या रोकने दे, लोगों के घरों में झगड़े हो रहे हैं, फसाद हो रहे हैं उसे रोक दे. पूरा देश एक दूसरे से प्यार करने लग जाए. जो वर्गों में विद्वेष हो रहे हैं उन वर्गों के विद्वेष को रोक दें. ऐसा कुछ जनता और राष्ट्र के लिए उपयोगी चमत्कार करके दिखाएं, तब हम उसको चमत्कारी पुरुष कह सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here