PM Modi ON up

प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) यूपी चुनाव के पांचवें चरण में चुनावी रैलियां कर रहे हैं. जानकारों के मुताबिक इन रैलियों के सहारे वह पिछले चरणों में पिछड़ चुकी बीजेपी को नई धार देने की कोशिश कर रहे हैं और यह चुनाव प्रचार प्रधानमंत्री मोदी का उत्तर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में हो रहा है.

उत्तर प्रदेश कई मामलों में पिछड़ा हुआ है. उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर कई तरह के सवाल खड़े हैं. उत्तर प्रदेश के युवा रोजगार की मांग को लेकर सड़कों पर उतरते हैं तो उन्हें लाठियों से पीटा जाता है. महंगाई से उत्तर प्रदेश की गरीब जनता त्रस्त है और ऐसे वक्त में उत्तर प्रदेश की जनता से जुड़ी हुई समस्याओं के समाधान का जिक्र करने की बजाय प्रधानमंत्री मोदी यूक्रेन से वापस आ रहे छात्रों की वापसी पर खुद की पीठ थपथपा रहे हैं, खुद की वाहवाही खुद ही कर रहे हैं.

यूक्रेन से भारतीय छात्रों को वापस लाने को लेकर कई तरह के सवाल हुए. वहां से भारतीय छात्रों ने कई तरह के वीडियो वायरल किया, जिसमें मोदी सरकार की किरकिरी हुई. लेकिन इस मुद्दे पर भी देश के प्रधानमंत्री मोदी उत्तर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर चुनावी रैलियों में इसे चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तर प्रदेश के बस्ती में एक जनसभा को संबोधित करते हुए बिना नाम लिए कांग्रेस और समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि ऑपरेशन Ganga चलाकर हम यूक्रेन से भी हजारों भारतीयों को वापस ला रहे हैं. हमारे जो बेटे बेटी अभी भी वहां हैं, उन्हें पूरी सुरक्षा के साथ अपने घर पहुंचाने के लिए सरकार दिन रात काम कर रही है. लेकिन भारत का यह पराक्रम दिल्ली और यूपी में बैठक कुछ घर परिवार वादियों को पसंद नहीं आता.

अब यहां सवाल उठता है कि अगर किसी देश के अंदर युद्ध हो रहा है तो वहां से अपने नागरिकों को, अपने युवाओं को सुरक्षित वापस निकालना किसी भी देश की सरकार की जिम्मेदारी बनती है और आज से पहले भी इस देश में जो सरकारें रही हैं उन्होंने ऐसा करके दिखाया है. क्या प्रधानमंत्री मोदी की सरकार ऐसा पहली बार कर रही है, इससे पहले की सरकारों ने अपने नागरिकों को युद्ध ग्रस्त देशों में ऐसे ही छोड़ दिया था?

प्रधानमंत्री मोदी जिस पराक्रम की बात कर रहे हैं ऐसा पराक्रम इस देश की पिछली सरकारों ने भी दिखाया है, अपने नागरिकों को युद्ध ग्रस्त देशों से बाहर निकाला है. पाकिस्तान के टुकड़े तक किए हैं इस देश की सरकार ने. प्रधानमंत्री मोदी कोई पराक्रम चीन के खिलाफ क्यों नहीं दिखाते? प्रधानमंत्री मोदी चीन के खिलाफ पराक्रम दिखाकर चुनावी रैलियों में वोट क्यों नहीं मांगते? कब तक पिछली सरकारों को और परिवारवाद की आड़ में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी को दोष देकर प्रधानमंत्री मोदी अपनी ही देश की जनता को मुद्दों से दूर करेंगे?

तो क्या यह मान लिया जाए की बीजेपी अब हर मुद्दे पर राजनीति खुलकर करेगी? बीजेपी ने क्या नैतिकता का त्याग कर दिया है? इन सब मुद्दों के अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने कहा आज का मतदान यूपी में बीजेपी की प्रचंड बहुमत वाली सरकार पर एक और ठप्पा लगाने वाला है. यूपी को दंगा मुक्त बनाने के लिए, गुंडा मुक्त बनाए रखने के लिए, यूपी के विकास के लिए लोगों का भरपूर आशीर्वाद हमें मिल रहा है.

उत्तर प्रदेश बीजेपी ने जितने उम्मीदवारों को 2022 के विधानसभा में टिकट दिया है, उसमें से अगर लिस्ट निकाली जाए तो अधिकतर लोगों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं. तो क्या जो लोग बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं या फिर बीजेपी का समर्थन करते हैं, प्रधानमंत्री मोदी ऐसे गुंडों को गुंडा नहीं मानते?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here