Ghulam Nabi Azad News

गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से लेकर सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है. आजाद ने कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी को 5 पन्नों का इस्तीफा भेजा है. भेजे गए स्थिति में गुलाम नबी आजाद ने लिखा है कि बड़े अफसोस और बेहद भावुक दिल के साथ मैंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से अपना आधा सदी पुराना नाता तोड़ने का फैसला किया है.

गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि भारत जोड़ो यात्रा की जगह कांग्रेस जोड़ो यात्रा निकालनी चाहिए. गुलाम नबी आजाद लंबे वक्त से कांग्रेस से नाराज थे. वह कांग्रेस के नाराज नेताओं के समूह के मुखिया थे. लंबे वक्त से वह कांग्रेस के खिलाफ समय-समय पर बयान बाजी भी कर रहे थे. कांग्रेस के अंदर बदलाव की मांग उनका गुट लंबे समय से कर रहा था.

इससे पहले कांग्रेस के एक और वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी से इस्तीफा दिया था, उन्हें समाजवादी पार्टी ने राज्यसभा भी भेजा है. गुलाम नबी आजाद की नाराजगी तब सामने आई थी जब उन्होंने अभियान समिति का अध्यक्ष बनाए जाने के कुछ घंटे बाद ही पद से इस्तीफा दे दिया था.

सोनिया गांधी चाह रही थी कि कांग्रेस जम्मू कश्मीर में आजाद के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़े इसलिए उन्हें चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष बनाया गया था, लेकिन उन्होंने पद मिलने के कुछ घंटे बाद ही स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद से ही कांग्रेस में उनके भविष्य को लेकर लगातार कयास लगाए जा रहे थे.

गुलाम नबी आजाद ने पार्टी से इस्तीफा ऐसे वक्त पर दिया है जब कांग्रेस ने हाल ही में कुछ समय के लिए अध्यक्ष पद के लिए चुनाव टाल दिया था. आपको बता दें कि गुलाम नबी आजाद कांग्रेस से लंबे समय से नाराज बताए जा रहे थे. गुलाम नबी आजाद 4 प्रधानमंत्रियों के मंत्रिमंडल में रह चुके हैं और 7 साल तक राज्यसभा में विपक्ष के नेता भी रहे हैं. वह कई सालों तक कांग्रेस में फैसले लेने वाली सर्वोच्च संस्था कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य भी रहे हैं. कई राज्यों में पार्टी के प्रभारी भी रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here