Rahul inc

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा 108 दिन पर दिल्ली में दाखिल हो रही है 24 दिसंबर को फरीदाबाद के रास्ते. बीजेपी के भीतर भी मंथन चल रहा होगा कि कैसे रिएक्ट करें. फिलहाल भारत जोड़ो यात्रा राजस्थान में है और भारत यात्रियों के स्वागत के लिए दिल्ली में काफी तैयारियां चल रही हैं.

भारत जोड़ो यात्रा के दिल्ली आते ही ‘हाथ से हाथ जोड़ो’ मुहिम शुरू होने वाली है. यह यात्रा दिल्ली बॉर्डर से सीधे राजघाट पहुंचेगी. महात्मा गांधी समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद हफ्ते भर का ब्रेक दिया जाएगा और फिर 2 या 3 जनवरी 2023 से भारत जोड़ो यात्रा पहले से तय कार्यक्रमों के अनुसार आगे बढ़ जाएगी.

100 दिन पूरे होने पर राहुल ने जो कहा

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी तमाम मुद्दों पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करते रहे हैं. लेकिन यात्रा के 100 दिन पूरे होने के मौके पर उन्होंने जो कुछ कहा है उस पर अलग ही बवाल शुरू हो गया. ज्यादा बवाल तो चीन के युद्ध की तैयारियों को लेकर उनके दावे पर हो रहा है. लेकिन क्षेत्रीय दलों को लेकर जो बात राहुल गांधी ने की है उस पर अलग ही रिएक्शन होने वाला है.

राहुल गांधी का पहले भी दावा रहा है और अब भी कि बीजेपी और आरएसएस के खिलाफ उनकी विचारधारा की लड़ाई है. गुजरात चुनाव के नतीजों के प्रसंग में एक बार फिर राहुल गांधी ने दावा किया है कि बीजेपी को सिर्फ कांग्रेस हरा सकती है ना की किसी क्षेत्रीय दल के बस की बात है यह.

जाहिर है राहुल गांधी ऐसी बातें हिमांचल प्रदेश के नतीजों की वजह से करने लगे हैं. भारत जोड़ो यात्रा की वजह से राहुल गांधी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में चुनावी रैलियां ना के बराबर की. इसके पहले राहुल गांधी मध्य प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में खूब प्रचार करते हुए दिखाई दिए थे और वहां पर भी उन्होंने विचारधारा के मोर्चे पर बीजेपी से सीधी लड़ाई लड़ी थी.

अधिकतर राज्यों में हुए चुनावी परिणाम में कांग्रेस को जीत हासिल हुई थी, जहां कांग्रेस की सीधी लड़ाई बीजेपी से थी. पिछले गुजरात विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस ने बीजेपी को कड़ी टक्कर दी थी और वहां पर भी राहुल गांधी ने खूब चुनाव प्रचार किया था. हालांकि बाद में बीजेपी ने जैसे-तैसे कुछ राज्यों में कांग्रेस को तोड़कर सरकार बना ली इनमें मध्य प्रदेश और कर्नाटक जैसे राज्य प्रमुख है.

हाल फिलहाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी ने यह बात समझाने की कोशिश की है कि गुजरात में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी की वजह से कांग्रेस की सीटें कम हो गई और वोट शेयर भी घट गया. लेकिन सवाल यह है कि जो बातें राहुल गांधी आज कर रहे हैं वह तो उन्हें पहले से पता होनी चाहिए कि कांग्रेस का वोट काट काट कर ही आज आम आदमी पार्टी राष्ट्रीय पार्टी बन चुकी है.

राहुल गांधी का कहना है कि केंद्र में सत्ताधारी बीजेपी के संगठनात्मक शक्ति और मनी पावर के बावजूद कांग्रेस ने उसके खिलाफ लड़ाई लड़ी और जीता भी. हालांकि कुछ हद तक राहुल गांधी की यह बातें सही भी है. लेकिन यहां पर राहुल गांधी की बातें कांग्रेस के ही नेताओं को समझने की जरूरत है कि आखिर आम आदमी पार्टी जैसी पार्टियां कांग्रेस का वोट बैंक क्यों और कैसे उड़ा ले जा रही हैं. आखिर कांग्रेस उसे रोक क्यों नहीं पा रही है?

क्षेत्रीय पार्टियों की जो बात राहुल गांधी ने की है उससे जाहिर है कि राहुल गांधी के मन में ज्यादा गुस्सा आम आदमी पार्टी के प्रदर्शन को लेकर है. हो भी क्यों नहीं. दिल्ली और पंजाब के बाद आम आदमी पार्टी ने गुजरात में भी कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोलकर ही कहीं ना कहीं कांग्रेस को कमजोर किया है और कांग्रेस के वोट बैंक को काटकर ही आम आदमी पार्टी तेजी से तरक्की करती हुई दिखाई दे रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here