Akshay Kumar Movie

बॉक्स ऑफिस कलेक्शन की बात करें तो अक्षय कुमार (Akshay Kumar) की “रक्षा बंधन” (Raksha Bandhan) बॉक्स ऑफिस पर कोई कमाल करती हुई नजर नहीं आ रही है. खबर है कि देश भर के कई सिनेमाघरों ने दर्शकों की कमी के कारण रक्षाबंधन के लगभग 1000 शोज कैंसिल कर दिया. रिपोर्ट तो यह भी कह रही है कि दूसरे दिन फिल्म की कमाई में 25% तक की कमी आई. इस फिल्म की कहानी भाई बहन के पवित्र रिश्ते के इर्द-गिर्द है, इसलिए इस रक्षाबंधन के त्यौहार वाले दिन रिलीज किया गया था.

अक्षय कुमार के लिए चिंता का विषय क्यों है?

रक्षाबंधन अक्षय कुमार के लिए बहुत ही अहम फिल्म थी, क्योंकि उनकी पिछली कुछ फिल्में बॉक्स ऑफिस पर औंधे मुंह गिरी हैं. इस फिल्म को बड़े मौके पर रिलीज भी किया गया है. रक्षाबंधन और 15 अगस्त के बीच का हॉलिडे इस फिल्म को फायदा दे सकता था, लेकिन नहीं हुआ. फिलहाल राखी का तो फायदा अक्षय कुमार की रक्षाबंधन को नहीं मिला है. अब आखिरी उम्मीद उन्हें स्वतंत्रता दिवस से है. “सम्राट पृथ्वीराज”, “बच्चन पांडे” और “बेल बाटम” जैसी अक्षय की पिछली कुछ फिल्में फ्लॉप साबित हुई हैं. अब एक और फिल्म का नाम इस लिस्ट में जुड़ गया तो अक्षय के लिए यह निश्चित रूप से चिंता का सबब है.

अक्षय कुमार की फिल्म रक्षाबंधन को हॉलिडे का कोई फायदा नहीं हुआ. लग रहा है कि भाई बहन के रिश्ते पर आधारित इस फिल्म की कहानी लोगों को पसंद नहीं आई. जिस दिन अक्षय कुमार की यह फिल्म रिलीज हुई थी उसी दिन आमिर खान की लाल सिंह चड्ढा भी रिलीज हुई. फिल्म की कहानी भाई बहन के रिश्ते से अधिक दहेज प्रताड़ना पर फोकस करती हुई नजर आई. आज के युग में इस फिल्म में भूमि पेडनेकर को सोलह सोमवार के व्रत करते दिखाया गया है. एक कामकाजी महिला के रूप में भी साथ ही साथ दिखाया जा सकता था.

फिल्म का मुख्य उद्देश्य लड़कियों को शिक्षित करने और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने पर होना चाहिए था. लेकिन ऐसा कुछ इस फिल्म में नहीं दिखाया गया है. अक्षय कुमार की ओवर एक्टिंग और इमोशनल सीन पर जबरदस्ती का ह्यूमर कहानी की गंभीरता को कम करता हुआ नजर आया है. पिछले दिनों अक्षय कुमार की सम्राट पृथ्वीराज रिलीज हुई थी, उस वक्त उन्होंने फिल्म की पब्लिसिटी के लिए कुछ ऐसे बयान दिए थे जिससे दर्शक नाराज हुए थे. उसका असर भी इस फिल्म पर होता हुआ दिखाई दिया. सम्राट पृथ्वीराज भी फ्लॉप हुई थी.

पिछले कुछ समय में देखा गया है कि बॉलीवुड से धीरे-धीरे त्यौहार और रिश्तो पर बनी कहानियां समाप्त हुई है, ऐसे में रक्षाबंधन एक बेहतरीन फिल्म बन सकती थी. लोगों को यह फिल्म अच्छी लगती तो निर्देशक दोबारा परिवारिक फिल्म बनाने पर जोर दिखाते. लेकिन शायद यह फिल्म जल्दबाजी में अपने मुख्य उद्देश्य से भटकती हुई नजर आई है. कहानी तो भाई बहन के रिश्ते पर है, लेकिन मिठास में शायद चीनी कम है. ऊपर से आजकल के दर्शक फिल्म देखने से पहले उसका पोस्टमार्टम कर देते हैं.

पिछले कुछ सालों में देखा गया है कि अक्षय कुमार राजनीतिक विचारधारा में सामंजस्य बिठाकर निष्पक्ष रहने की जगह एक तरफ दिखाई दिए हैं. उनकी लगातार फ्लॉप होती फिल्मों की वजह यह भी हो सकती है कि दूसरी विचारधारा को समर्थन करने वाले लोग शायद उनकी फिल्में नहीं देख रहे हैं. क्योंकि उन्हें पता है कि अक्षय कुमार फिल्म की पब्लिसिटी के लिए एक विचारधारा को जो पसंद है ऐसे ही बयान देते रहे हैं. शायद इन सब बातों का असर उनकी फिल्मों के कलेक्शन पर पड़ता दिखाई दे रहा है.

बात अगर सोशल मीडिया की की जाए तो अक्षय कुमार की फिल्म का भी विरोध लाल सिंह चड्ढा के साथ हो रहा था. अक्षय कुमार को खिलाड़ी कुमार के अलावा “कनाडा कुमार” भी कहा जा रहा है. उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया था कि भारत में टैक्स पे करने के साथ-साथ उन्होंने अभी भी कनाडा की नागरिकता अपने पास रखी हुई है. 2019 में उन्होंने कनाडा की नागरिकता के लिए अप्लाई किया था और लोकसभा चुनाव में हिस्सा नहीं लिया था, जिस वजह से उनकी जमकर आलोचना की गई थी. उनकी फिल्म नहीं चलने के बाद सोशल मीडिया पर अब फिर से उन्हें कनाडा की याद लोग दिला रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here