Ravish Kumar Youtube

रवीश कुमार (Ravish Kumar) ने पिछले दिनों एनडीटीवी से इस्तीफा दे दिया था, उसके बाद से ही वह सुर्खियों में है. उन्होंने कहा है कि एनडीटीवी से इस्तीफा देना सही समय पर लिया गया एक सही फैसला है. उन्हें इस बात का कोई अफसोस नहीं है. रवीश कुमार ने बीबीसी को एक इंटरव्यू दिया है, जिसमें उन्होंने खुद को लेकर और एनडीटीवी को लेकर कई बातें कही है.

रवीश कुमार ने कहा है कि एनडीटीवी को खरीदा जाना एक सामान्य व्यापारिक फैसला नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने इस बात को भी दोहराया कि उनको निशाना बनाने के लिए एनडीटीवी को खरीदा गया है. बीबीसी को दिए इंटरव्यू में उन्होंने इस बात को स्वीकार किया कि वरिष्ठ पत्रकार करण थापर को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कुछ बातें गुस्से में जरूर कह दी थी, लेकिन बात उन्होंने गलत नहीं कही थी.

बीबीसी द्वारा पूछे गए एक सवाल के जवाब में रवीश कुमार ने गौतम अडानी के इंटरव्यू का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार की तारीफ करने के लिए साहस होना चाहिए यह तो हास्यास्पद बात है. 99 फ़ीसदी मीडिया तो यही कर रहा है. ऐसा लग रहा है कि बहुत लोग सरकार की आलोचना कर रहे हैं, कोई तारीफ नहीं कर रहा है तो सरकार की तारीफ करने के लिए अपने एनडीटीवी खरीद रहे हैं.

राजनीति में आने को लेकर पूछे गए सवाल पर रवीश कुमार ने कहा कि उनके कई दोस्त और शुभचिंतक कहते हैं कि उन्हें राजनीति में आना चाहिए. लेकिन किसी राजनीतिक पार्टी ने उन्हें कोई ऑफर नहीं नहीं दिया है. लेकिन उन्होंने इतना जरूर कहा कल्पना कीजिए कि अगर मैं लोकसभा में हूं उनके (मोदी) सामने. लोकसभा तो कोई खरीद नहीं सकता है.

रवीश कुमार अब आगे क्या करेंगे? इसको लेकर उन्होंने कहा कि दुनिया भर के लोग उनकी मदद के लिए आगे आए हैं और लोगों के समर्थन के कारण ही उनका यूट्यूब चैनल इतनी जल्दी इतना लोकप्रिय हो गया है. उन्होंने कहा जो लोकतंत्र को मुर्दा बनाना चाहते हैं, मैं उनको बताना चाहता हूं कि अभी वो जिंदा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here